सरकार बताए इटावा, मैनपुरी और कन्नौज में अब तक कितने लोगों की काटी गई बिजली?

लखनऊ| भारतीय जनता पार्टी ने कहा कि केजीएमयू प्रशासन ने अगर बिजली बिल का भुगतान नहीं किया तो उसमें मरीजों का क्या दोष ? बिजली विभाग ने भले ही अस्पताल की बिजली नहीं काटी लेकिन पैथोलाजी आदि जरूरी सेवाओं को बिजली से मरहूम करके घोर संवेदनहीनता का परिचय दिया है।

भारतीय जनता पार्टी प्रदेश मुख्यालय में पत्रकारों से चर्चा करते हुए प्रदेश प्रवक्ता डा0 चन्द्रमोहन ने कहा कि अगर बिजली विभाग बकायेदारों और बिजली चोरों पर इतना ही सख्त है तो वह पहले यह बताए कि इटावा, मैनपुरी, कन्नौज में अब तक कितने लोगों की बिजली काटी गई है और चोरी के इल्जाम में कितने लोगों पर कार्रवाई की गई है ?

प्रदेश प्रवक्ता डा0 चन्द्रमोहन ने कहा कि समाजवादी पार्टी के गढ़ इटावा, मैनपुरी, रामपुर, कन्नौज में सबसे ज्यादा बिजली चोरी होने के बावजूद यहां 24 घंटे बिजली दी जा रही है जबकि दूसरे जिले घोर बिजली संकट की चपेट में हैं। बिजली न आने से ही गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में पिछले दिनों वेंटिलेटर नहीं चल पाए थे जिसका खमियाजा उन मासूम बच्चों ने भुगता था जो अस्पताल के आइसीयू में भर्ती थे।

प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सत्ता संभालते ही तीन वर्ष के भीतर पूरे प्रदेश में 24 घंटे बिजली देने का दावा किया था लेकिन सपाई प्रभुत्व वाले तीन-चार जिलों को छोड़कर किसी भी जिले में उनका यह दावा हकीकत में नहीं उतर पाया है। बिजली का संकट लगातार गहराता जा रहा है। दिखाने के लिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अधूरी बिजली परियोजनाओं का उद्घाटन कर रहे हैं लेकिन गरीब जनता और किसान को बिजली नहीं मिल रही है? निजी बिजली परियोजनाओं से महंगी बिजली खरीद कर सरकार भ्रष्टाचार को भी फलने-फूलने का पूरा मौका दे रही है।