साहित्यकारों द्वारा पुरस्कार वापस करना दुर्भाग्यपूर्ण: कालराज मिश्र

लखनऊ। केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्र ने मंगलवार को साहित्यकारों द्वारा वापस किए जा रहे पुरस्कार की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। उन्होने कहा कि कुछ लोग बीफ और दादरी जैसे मुद्दे को उठाकर सरकार को बदनाम करना चाहते हैं। ऐसे में साहित्यकार इस तरह के अभियान में शामिल न हों, यह दुर्भाग्यपूर्ण है। 

इसके अलावा उन्होने वाराणसी प्रख्यात साहित्यकार काशीनाथ सिंह से सम्मान को वापस न करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि काशीनाथ सिंह योग्य और प्रतिभा के गुणी व्यक्ति हैं। ऐसे में वह और अन्य साहित्यकार इस तरह के अभियान चलाकर सम्मान वापस न करें। 

मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में सर्किट हाउस पहुंचे केंद्रीय मंत्री ने साहित्यकारों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर प्रतिबंध के आरोप को निराधार बताया। उन्होंने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर कहीं रोक नहीं है, लेकिन साहित्यकारों और लेखकों को जो सम्मान मिला है, उसको वापस करके वे सम्मान को अपमानित न करें।

दाल के दामों में हो रही बढ़ोतरी पर केंद्रीय मंत्री कलराज मिश्र ने कहा कि राज्य सरकार जमाखोरों पर रोक नहीं लगा पा रही है। इससे बाजार में दाल की कमी होने के कारण दाल के दाम बढ़ गए हैं। यदि समान रूप से वितरण प्रक्रिया को अपनाया जाता तो ऐसे हालात नहीं होते। इसके लिए राज्य सरकार जिम्मेदार है। 

उन्होंने राज्य सरकार को टिप्स देते हुए कहा कि वे जमाखोरों से माल को बाहर निकलवाएं। हमने दाल का आयात कर लिया है। जल्दी ही उसका वितरण कराकर दाल के मूल्यों पर नियंत्रण करने की कोशिश की जाएगी।