सुप्रीम कोर्ट से संजीव भट्ट को झटका, SIT से जांच की याचिका खारिज

नई दिल्‍ली| सुप्रीम कोर्ट ने आज गुजरात कैडर के बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को बड़ा झटका देते हुए उनके खिलाफ दाखिल दो प्राथमिकियों की जांच एसआईटी से कराने की मांग को ठुकरा दिया है।

इन प्राथमिकियों में भट्ट पर 2002 के गुजरात दंगों के मामले में हलफनामा दाखिल करने के लिए अपने मातहतों पर कथित तौर पर दबाव डालने और एक विधि अधिकारी का ईमेल हैक करने के आरोप लगाए गए हैं। प्रधान न्यायाधीश एचएल दत्तू और न्यायमूर्ति अरूण मिश्रा की पीठ ने यह भी कहा कि दोनों मामलों में कार्यवाही तेजी से संचालित की जाए।

इससे पहले, भट ने दोनों प्राथमिकियों की सीबीआई जांच कराने की मांग की थी। बाद में उन्होंने अपना आग्रह बदल दिया और इस आधार पर अदालती निगरानी में एसआईटी जांच का आग्रह किया कि जिन लोगों के खिलाफ उनकी शिकायत है, वे अब केन्द्र में सरकार चला रहे हैं।

पूर्व आईपीएस अधिकारी ने अपनी याचिका में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और आरएसएस नेता एस. गुरूमूर्ति को भी मामले में पक्ष के रूप में शामिल करने का आग्रह किया था। शाह उस वक्त गुजरात सरकार में गृह राज्य मंत्री थे। यह याचिका भी खारिज हो गई थी।