सेमिनार में बतायी गई 1090 की उपयोगिता

लखीमपुर-खीरी। पुराने जमाने से ही महिलाओं को समाज उपेक्षा की दृष्टि से देखतें हुए कमजोर तथा अबला मानता चला आया है इस धारणा को पूरी तरह से बदलने के लिये महिलाओं को अपनी मानसिकता बदलते हुए समाज की हर उस चुनौती से दृणतापूर्वक मुकाबला करना होगा जो उनके सम्मान के लिये खास बन जाये।

लखीमपुर खीरी तथा बहराइच जनपदों की थारू जनजातियों की महिलाओं को पोषण एवं स्वास्थ्य प्रशिक्षण के लिये आयोजित सेमिनार के दौरान जिलाधिकारी किंजल सिंह ने अपने उक्त संबोधन में उ0प्र0 सरकार द्वारा अभी हाल में ही शुरू की गयी वीमेन पावर लाइन 1090 की विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि महिलाओं को भयमुक्त, बोल्ड बनाने उनकी अस्मिता को पूरी तरह सुरक्षित रखने के उद्देश्य से ही प्रदेश सरकार ने महिलाओं के लिए इस सुविधा की शुरूआत की है। जिलाधिकारी ने कहा कि अभी अधिकांश महिलाओं को यह बात नही पता है कि 1090 क्या है इसके बारे में व्यापक जानकारी देने की आवश्यकता है खास तौर पर समाज की उन कमजोर वर्ग की अशिक्षित महिलाओं को जिनको आये दिन तरह-तरह से प्रताड़ित किया जाता है।

डीएम ने कहा कि आज कल तो स्कूलों में, आफिस में, यात्रा के दौरान, पैदल चलते, घर आते-जाते, परिवार में गृहणी के रूप में महिलाओं का उत्पीड़न, छेड़छाड,़ जानलेवा जघन्य घटनायें घटती रहती है उसके लिये 1090 फोन नंबर बहुत काम का है। जिलाधिकारी ने कहा कि जिन महिलाओं को 1090 की जानकारी है भी वह भी तमाम संकोच, डर के कारण इसका प्रयोग नही कर पाती है उनके मन में यह भय समाया रहता है कि मामले की पुलिस रिपोर्ट के बाद समाज में घूमने-फिरने का खतरा बढ़ जायेगा। तमाम समस्यायें बढ़ जायेगी, आरोपी पहले से ज्यादा तंग करना शुरू कर सकता है, कानूनी पचड़ो में फसना पड़ेगा और सबसे ज्यादा बदनामी का डर सताता है।

उन्हांेने उक्त सभी शंकाओं को साफ करते हुए कहा कि 1090 पर आप अगर शिकायत करें तो आपकी पहचान गोपनीय रखी जायेगी, आपको थाने में नही बुलाया जायेगा, आपका फोन महिला पुलिस अधिकारी द्वारा सुना जाता है और समस्या के समाधान तक 1090 आपके सम्पर्क में रहता है। जिलाधिकारी ने 1090 से संपर्क में रहने के माध्यमों की जानकारी देते हुए बताया कि पीड़िता 1090 पर काल करने के साथ ही व्हाट्सएप नम्बर 9454401090, तथा फेसबुक की वेबसाइट का भी इस्तेमाल कर सकती है।

1090 की उपयोगिता तथा लोकप्रियता बताते हुए जिलाधिकारी ने बताया कि पूरे प्रदेश में इस नम्बर पर प्राप्त 3.71 लाख शिकायतों का निस्तारण किया जा चुका है, इसमें 3,52435 शिकायतें फोन पर अभद्रता,अश्लीलता, 8228 शिकायतें सार्वजनिक स्थानों पर छेड़छाड़, 6933 सामाजिक साइट्स पर उत्पीड़न, 3129 घरेलू हिंसा तथा 1186 अन्य शिकायतें प्राप्त हुई थी। प्राप्त शिकायतों में 68 प्रतिशत शहरी तथा 32 प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्रांे की महिलाओं से प्राप्त हुईं।

जिलाधिकारी ने अपने इरादे जाहिर करते हुए कहा कि बदमाशों के खिलाफ सख्ती से निपटनें के अलावा कोई विकल्प नहीं हैं। यदि किसी लड़की को किसी लड़के द्वारा कोई वारदात की संभावना दिखे तो तत्काल उसका फोटो लेकर 1090 पर सूचित करें। उन्होनें कहा कि छेड़खानी करने वालो के फोटो, फोन नम्बर फेसबुक पर भी टैग करवाने का रास्ता निकाल रही है।

अलबत्ता कलेक्ट्रेट सभागार में मौजूद थारू जनजाति की सभी प्रशिक्षु युवतियों से उन्होनें उपेक्षा की वह ओरछा से प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद जब वापस अपने-अपने जनपदों में आयेंगी तब नारी सशक्तीकरण की एक नयी मशाल प्रज्वलित करेंगी। इस दौरान सभागार में 1090 की महिला पुलिस अधिकारी तथा उनके अन्य स्टाफ ने 1090 की विस्तृत जानकारी देते हुए इसके प्रयोग करने के तरीकों को बताते हुए लड़कियों को हर स्तर पर निडर बनने के टिप्स दिये।

लखीमपुर-खीरी से एसडी त्रिपाठी की रिपोर्ट