हरियाणा में गरीबों और कमजोरी की सरकार नहीं इसलिए हुई सुनपेड़ की घटना: राहुल गांधी

नई दिल्ली। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को हरियाणा के फरीदाबाद के सुनपेड़ गांव का दौरा कर उस दलित परिवार से मुलाकात की जिसके चार सदस्यों को एक पुरानी रंजिश के तहत जिन्दा जलाने का प्रयास किया गया था। इस घटना में दो बच्चों की मौत हो चुकी है जबकि मृत बच्चों की मां दिल्ली के एक अस्पताल में जिन्दगी और मौत के बीच जूझ रही है। पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने हरियाणा की बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यहां गरीबों और कमजोरों की सरकार नहीं है। इसीलिए ऐसी घटना सामने आई है। वह पीड़ित परिवार को इंसाफ दिलाने के लिए राज्य और केन्द्र सरकार पर दवाब बनाएंगे।

सुनपेड़ की घटना के पीछे पुरानी रंजिश को कारण के रूप में सामने आने के बावजूद हुए राहुल गांधी के दौरे को सियासत से जोड़कर देखे जाने के पुछे गए सवाल पर राहुल गांधी भड़क उठे। उन्होंने कहा कि ऐसा कहकर बेज्जती की जा रही ऐसे पीड़ित परिवारों की और कमजोरों की जिनके लोग मारे जा रहे हैं। हरियाणा ही नहीं पूरे देश में ऐसा ही माहौल है, जहां भी ऐसा होगा मैं जाऊंगा, जरूर जाऊंगा और बार-बार जाऊंगा। केन्द्र की मोदी सरकार, हरियाणा की खट्टर सरकार, बीजेपी और आरएसएस की यही विचारधारा है जहां भी कमजोर लोग मिले उन्हें कुचल दो।

इस घटना में मारे गए बच्चों के पिता जितेन्द्र से 20 मिनट की बातचीत करने के बाद राहुल गांधी ने कहा कि स्थनीय लोगों की मांग है कि मामले की सीबीआई जांच करवाई जाए। मैं पूरा दवाब बनाऊंगा ताकि इन लोगों को इंसाफ मिल सके। उन्होंने स्थानीय पुलिस की कार्रवाई पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि यह परिवार तीन दिन पहले पुलिस के पास गया था इसे यह कहते हुए वापस लौटा दिया गया कि अब तक तुम्हारा कोई मरा नहीं है।

आपको बता दें सुनपेड़ में हुई घटना तीन साल पुरानी उस रंजिश के चलते सामने आई जिसमें दलित परिवार के युवकों और राजपूतों के बीच हुई मारपीट में दलितों ने राजपूतों के तीन लड़कों की हत्या कर दी थी। जिसके बाद से राजपूतों और दलित परिवार के बीच तनावपूर्ण संबन्ध थे। आरोप है कि उसी घटना के प्रतिशोध में सोमवार की देर रात राजपूतों ने दलित परिवार के चार सदस्यों को पेट्रोल डालकर जिन्दा जलाने की कोशिश की। घटना के बाद से आरोपी परिवार फरार है।