हिमाचल: सीएम वीरभद्र सिंह के 11 ठिकानों पर सीबीआई व ईडी का छापा

शिमला। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह पर लग रहे भ्रष्टाचार के आरोप पर कार्रवाई करते हुए केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) व प्रवर्तन निदेशयल ने अपना पहला कदम बढ़ा दिया है। इन दोनों विभागों ने मुख्यमंत्री के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उनके निजी आवास हालीलॉज सहित प्रदेश भर में कुल 11 ठिकानों पर छापेमारी की है। बताया जा रहा है कि प्रदेश भर में हुई सीबीआई व ईडी की इस रेड में करीब 300 अधिकारी शामिल थे। वीरभद्र के खिलाफ शुरू हुई इस जांच में बाद कांग्रेस पाले में हलचल मच गई है। पार्टी के कई नेता इस कार्रवाई की निंदा करते नजर आ रहे हैं।

मिली जानकारी के अनुसार, सीबीआई व ईडी की पांच गाडियाँ सुबह आठ बजे वीरभद्र सिंह के निजी आवास पर पहुंची जिसमें लगभग 18 अधिकारी सवार थे हैं। मुख्यमंत्री के आवास पर जिस समय दबिश पड़ी थी वह अपनी बेटी मीनाक्षी की शादी की रस्मों में मंदिर में व्यस्त थे। जैसे ही उन्हें रेड की सूचना मिली, वह हालीलॉज पहुंचे। सीबीआई के छापे के बाद उनके घर में किसी को भी प्रवेश करने नहीं दिया गया। पूरे आवास को सील कर दिया गया।    

मुख्यमंत्री के आवास पर छापा पड़ने की खबर मिलने के बाद कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने इस कार्रवाई को बदले की बदले की भावना से की गई कार्रवाई बताया। उन्होंने कहा कि सरकार जांच एजेंसी का दुरुपयोग कर रही है। उधर, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि वीरभद्र के खिलाफ एक पुराने मामले में जांच की जा रही है। उनके मुताबिक, बेटी की शादी के दिन इस तरह की जांच नहीं होनी चाहिए थी। वीरभद्र सिंह काफी समय से हिमाचल के सीएम हैं। वह एक ईमानदार नेता हैं, अदालत में उनके खिलाफ केस विचाराधीन है। 

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री पर पिछले कई दिनों से आय से अधिक संपति का आरोप लग रहा है। यह दबिश इसी आरोप के चले दी गई। सूचना के अनुसार, सीबीआई व ईडी ने प्रदेश के 11 स्थानों पर दबिश दी है। रामपुर में भी टीमों द्वारा जांच करने की सूचना है। आपको यह भी बता दें कि आज ही मुख्यमंत्री की बेटी मीनाक्षी का विवाह भी था,  इसकी रस्में संकट मोचन मंदिर में चल रही थी। इसी बीच, यह दबिश हुई है। इस विवाह समारोह को लेकर हॉलीलॉज में ही दोपहर का भोजन का कार्यक्रम भी था। इसके लिए कुल 88 लोगों को निमंत्रण दिया गया था, लेकिन इससे पहले यहां सीबीआइ व ईडी की टीमों की दबिश हो गई।