यूपी बोर्ड के रिकार्ड 10.40 लाख छात्रों ने छोड़ी परीक्षा

यूपी बोर्ड के रिकार्ड 10.40 लाख छात्रों ने छोड़ी परीक्षा
यूपी बोर्ड के रिकार्ड 10.40 लाख छात्रों ने छोड़ी परीक्षा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद् द्वारा शैक्षिक सत्र 2017—18 के लिए आयोजित करवाई जा रहीं हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की वार्षिक परीक्षाओं को छोड़ने वाले छात्रों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। 6 फरवरी से शुरू हुई बोर्ड परीक्षाओं मेंं अब तक 10 लाख 40 हजार छात्र अपनी परीक्षाएं बीच में ही छोड़ चुके हैं। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा बोर्ड परीक्षाओं में होने वाली नकल पर पाबंदी लगाने के बाद से छात्रों ने परीक्षा छोड़ी है। बोर्ड परीक्षाओं के शुरूआती दौर में जिस तरह से नकल वाले परीक्षाकेन्द्रों पर शिकंजा कसा गया है, उससे शिक्षामाफियाओं के हौंसले पस्त हो गए हैं।

जानकारों की माने तो आने वाले समय में यह आंकड़ा बढ़कर 12 लाख तक पहुंच सकता है, क्योंकि अब तक जिन विषयों की परीक्षा सम्पन्न हुई है उनमें इं​टरमीडिएट गणित को छोड़कर किसी ऐसे विशेष विषय की परीक्षा नहीं हुई है जिन्हें लेकर छात्र नकल पर निर्भर रहते हों। इसलिए ऐसा माना जा रहा है कि आने वाले समय में हाईस्कूल में गणित और विज्ञान की परीक्षा के दिन बड़ी तादात में परीक्षार्थी अनुपस्थित हो सकते हैं। शुक्रवार को इंटरमीडिएट गणित की परीक्षा के बाद अनुपस्थित छात्रों की संख्या तेजी के साथ बढ़ी है। जिन छात्रों का पहला प्रश्नपत्र खराब हुआ है संभव है कि नकल न मिलने की दशा में वे अगले प्रश्नपत्र में शामिल न हों।

{ यह भी पढ़ें:- बाराबंकी: हाईस्कूल के टॉपर को दिया गया चेक बाउंस, सीएम योगी ने किया था सम्मानित }

अगर आंकड़ों की बात की जाए तो साल 2016 में भी यूपी बोर्ड की परीक्षाओं में करीब 6.50 लाख छात्रों ने परीक्षा छोड़ी थी। जिसके बाद 2018 में अबतक सर्वाधिक 10.40 लाख छात्र परीक्षा छोड़ चुके हैं। आमतौर पर प्रतिवर्ष करीब 5 से 7 फीसदी छात्र बोर्ड परीक्षाओं में शामिल नहीं होते हैं, लेकिन 15 से 17 प्रतिशत छात्रों का परीक्षा छोड़ना यूपी की शिक्षा व्यवस्था के साथ हो रहे खिलवाड़ की ओर इशारा कर रहा है।

वहीं बड़ी तादात में छात्रों के परीक्षा छोड़ने को लेकर माध्यमिक शिक्षा मंत्री और उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा की ओर से आए बयान ने शिक्षा माफिया और नकल के भरोसे पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए चेतावनी का काम किया है। शर्मा ने स्पष्ट कर दिया है कि नकल के नाम पर होने वाले गोरखधंधे को वह पनपने नहीं देंगे। किसी भी स्तर पर नकल को स्वीकार नहीं किया जाएगा।

{ यह भी पढ़ें:- UP Board Results 2018: जानिए कब आएगा10वीं और 12वीं का रिज़ल्ट }

लखनऊ। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद् द्वारा शैक्षिक सत्र 2017—18 के लिए आयोजित करवाई जा रहीं हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की वार्षिक परीक्षाओं को छोड़ने वाले छात्रों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। 6 फरवरी से शुरू हुई बोर्ड परीक्षाओं मेंं अब तक 10 लाख 40 हजार छात्र अपनी परीक्षाएं बीच में ही छोड़ चुके हैं। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा बोर्ड परीक्षाओं में होने वाली नकल पर पाबंदी लगाने के बाद से छात्रों ने परीक्षा…
Loading...