सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट के दस विधायक बीजेपी में शामिल, पवन कुमार चामलिंग को लगा झटका

Sikkim Democratic Front
सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट के 10 विधायक बीजेपी में शामिल, राम माधव ने सदस्यता ग्रहण कराई

नई दिल्ली। सिक्किम में बड़ा राजनीति उल्टफेर हुआ है। डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) के दस विधायक आज भाजपा में शामिल हो गए हैं। यह भाजपा महासचिव राम माधव की अगुवाई में पार्टी की सदस्यता लिए। इस दौरान भाजपा कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा भी मौजूद रहे।

10 Mlas Of Sikkim Democratic Front Join Bjp :

विधानसभा चुनाव में पवन कुमार चामलिंग की पार्टी डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) के 15 विधायक जीते थे। इसमें से 10 विधायक आज बीजेपी में शामिल हो गए। फिलहाल राज्य में सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा (एसकेएम) की सरकार है और प्रेम सिंह तमांग राज्य के मुख्यमंत्री हैं। गौरतलब है कि इस बार विधानसभा चुनाव में 25 साल से सत्ता में काबिज पवन कुमार चामलिंग की पार्टी को हार का सामना करना पड़ था।

वहीं, सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा (एसकेएम) ने जीत हासिल की थी। चामलिंग की एसडीएफ पार्टी ने 32 में से 15 सीट हासिल कीं। जबकि 2013 में अस्तित्व में आए एसकेएम ने 17 सीटें हासिल की हैं। बहुमत के लिए भी 17 सीटें ही चाहिए थी। यहां राष्ट्रीय पार्टियों की स्थिति उतनी मजबूत नहीं है। चामलिंग वहां पाच बार सीएम रहे हैं।

नई दिल्ली। सिक्किम में बड़ा राजनीति उल्टफेर हुआ है। डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) के दस विधायक आज भाजपा में शामिल हो गए हैं। यह भाजपा महासचिव राम माधव की अगुवाई में पार्टी की सदस्यता लिए। इस दौरान भाजपा कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा भी मौजूद रहे। विधानसभा चुनाव में पवन कुमार चामलिंग की पार्टी डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) के 15 विधायक जीते थे। इसमें से 10 विधायक आज बीजेपी में शामिल हो गए। फिलहाल राज्य में सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा (एसकेएम) की सरकार है और प्रेम सिंह तमांग राज्य के मुख्यमंत्री हैं। गौरतलब है कि इस बार विधानसभा चुनाव में 25 साल से सत्ता में काबिज पवन कुमार चामलिंग की पार्टी को हार का सामना करना पड़ था। वहीं, सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा (एसकेएम) ने जीत हासिल की थी। चामलिंग की एसडीएफ पार्टी ने 32 में से 15 सीट हासिल कीं। जबकि 2013 में अस्तित्व में आए एसकेएम ने 17 सीटें हासिल की हैं। बहुमत के लिए भी 17 सीटें ही चाहिए थी। यहां राष्ट्रीय पार्टियों की स्थिति उतनी मजबूत नहीं है। चामलिंग वहां पाच बार सीएम रहे हैं।