नई दिल्ली: बुराड़ी में 11 लोगों की मौत के मामले में आया नया मोड़, तंत्र—मंत्र के चलते की सामूहिक खुदकुशी

नई दिल्ली। दिल्ली ​बुराड़ी इलाके के एक घर में रविवार सुबह 7 महिलाओं समेत 11 लोगों की मौत के मामले में नया खुलासा हुआ है। इस मामले में पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंपी थी। टीम ने पड़तान शुरु की तो वहां मिले रजिस्टर ने पूरा मामला ही पलट दिया। घर से बरामद एक रजिस्टर में आध्यात्मिक बातें लिखी मिलीं। आधा भर चुका यह रजिस्टर दिसंबर से लिखना शुरू किया गया था। 26 जून को चार पेज भरे गए। इनमें 30 जून को भगवान से मिलने जाने की बात भी कही गई। रजिस्टर में ये भी लिखा है कि शरीर नश्वर है और आत्मा अमर। इसमें ये भी लिखा था कि कोई किस तरह हाथ-मुंह ढंककर अपने डर से उबर सकता है। निर्वाण का भी जिक्र किया गया था।

10 Shocking Disclosures In 2 Registers In Buradhi 11 Death Case Investigation Going On :

बता दें कि यहां 10 के शव फंदे पर लटके थे, जिनके मुंह और आंखों पर टेप लगा हुआ था। 75 साल की महिला का शव दूसरे कमरे में जमीन पर पड़ा था। पुलिस के मुताबिक, बुजुर्ग की हत्या गला दबाकर की गई। जांच में पता चला कि मृतकों में दो भाइयों का परिवार, उनकी मां, बहन और भांजी शामिल हैं। पु​लिस अधिकारियों का कहना है कि नोट्स से ऐसा लगता है कि परिवार किसी तरह के संदेहास्पद अनुष्ठान करता था। उधर, क्राइम ब्रांच के पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार ने कहा- काला जादू और तांत्रिक क्रियाओं के एंगल से भी इस मामले की जांच की जाएगी।

खुदकुशी पर शक क्यों :पुलिस के मुताबिक, घर के दरवाजे खुले थे और फंदे से लटके लोगों के पैर भी जमीन से छू रहे थे। ऐसे में फांसी लगाना संदेहास्पद है। पुलिस सीधे तौर पर इसे खुदकुशी का मामला नहीं मान रही थी। पड़ोसियों ने भी बताया कि परिवार की किसी से दुश्मनी नहीं थी। वे धार्मिक प्रवृत्ति के मिलनसार लोग थे। झाबुआ (मध्यप्रदेश) में रहने वाले एक रिश्तेदार आदित्य सिंह सिसोदिया ने कहा, “मेरी शनिवार रात मौसी टीना और मौसा ललित से फोन पर बात हुई थी। तब बिल्कुल भी नहीं लगा कि वे किसी परेशानी या तनाव में थे।

इन लोगों की मौत हुई

भूपी सिंह भाटिया (45), उसकी पत्नी श्वेता (42), बेटी नीतू (24), बेटी मीनू (22) और बेटा ध्रुव (15), भूपी का भाई ललित (42) उसकी पत्नी टीना (38), ललित का बेटा शिवम (12), भूपी की मां नारायण देवी (75), भूपी की बहन प्रतिभा (58), प्रतिभा की बेटी प्रियंका (30)।

रजिस्टर में लिखी मिली ये बातें

—रजिस्‍टर में लिखा है कि पटिया अच्छे से बांधनी हैं, शून्य के अलावा कुछ नही दिखना चाहिए. रस्सी के साथ सूती चुनिया या साड़ी का प्रयोग करना हैं.
—सात दिन बाद लगातार पूजा करनी है्. इस पूजा को थोड़ा लग्न और श्रद्धा के साथ करना है। इस पूजा के दौरान अगर कोई घर में आ जाए तो यह पूजा अगले दिन करनी है।
—इस पूजा के लिए गुरुवार और रविवार को चुना है।
—रजिस्‍टर में लिखा है कि बुजुर्ग महिला बेबे खड़ी नहीं हो सकती तो अलग कमरे में लेट सकती हैं। आपको बता दें कि बुजुर्ग महिला की गला रेत कर —हत्‍या की गई थी। इस महिला का शव दूसरे कमरे में मिला है।
—इस रजिस्‍टर में लिखा है कि परिवार के सभी लोगों की सोच एक जैसी होनी चाहिए। ये पहले से ज्यादा दृढ़ता से बढ़ना होगा और ये करते ही तुम्हारे आगे के काम दृढ़ता से शुरू होंगे।
—जब सब लोग हत्‍या करेंगे तो उस वक्‍त कमरे में हल्‍की रोशनी होनी चाहिए।
—इस रजिस्‍टर में लिखा है कि हाथों की पटिया अगर बच जाए तो उसे आंखों पर डबल कर लेना।
इतना ही नहीं मुंह की पट्टी को भी रुमाल से डबलकर लेना है।
—बुराड़ी के एक घर में 11 लाशें मिलने के बाद इस पूरे मामले को आत्‍महत्‍या से जोड़कर देखा जा रहा है और इसके घर से जो दो रजिस्‍टर मिले उसमें लिखा है। जितनी दृढ़ता और श्रद्धा दिखाओगे उतना ही उचित फल मिलेगा।
—इस रजिस्‍टर में लिखा है रात्रि के 12 से 1 के बीच क्रिया करनी हैं उसके पहले हवन करना है।

नई दिल्ली। दिल्ली ​बुराड़ी इलाके के एक घर में रविवार सुबह 7 महिलाओं समेत 11 लोगों की मौत के मामले में नया खुलासा हुआ है। इस मामले में पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंपी थी। टीम ने पड़तान शुरु की तो वहां मिले रजिस्टर ने पूरा मामला ही पलट दिया। घर से बरामद एक रजिस्टर में आध्यात्मिक बातें लिखी मिलीं। आधा भर चुका यह रजिस्टर दिसंबर से लिखना शुरू किया गया था। 26 जून को चार पेज भरे गए। इनमें 30 जून को भगवान से मिलने जाने की बात भी कही गई। रजिस्टर में ये भी लिखा है कि शरीर नश्वर है और आत्मा अमर। इसमें ये भी लिखा था कि कोई किस तरह हाथ-मुंह ढंककर अपने डर से उबर सकता है। निर्वाण का भी जिक्र किया गया था। बता दें कि यहां 10 के शव फंदे पर लटके थे, जिनके मुंह और आंखों पर टेप लगा हुआ था। 75 साल की महिला का शव दूसरे कमरे में जमीन पर पड़ा था। पुलिस के मुताबिक, बुजुर्ग की हत्या गला दबाकर की गई। जांच में पता चला कि मृतकों में दो भाइयों का परिवार, उनकी मां, बहन और भांजी शामिल हैं। पु​लिस अधिकारियों का कहना है कि नोट्स से ऐसा लगता है कि परिवार किसी तरह के संदेहास्पद अनुष्ठान करता था। उधर, क्राइम ब्रांच के पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार ने कहा- काला जादू और तांत्रिक क्रियाओं के एंगल से भी इस मामले की जांच की जाएगी। खुदकुशी पर शक क्यों :पुलिस के मुताबिक, घर के दरवाजे खुले थे और फंदे से लटके लोगों के पैर भी जमीन से छू रहे थे। ऐसे में फांसी लगाना संदेहास्पद है। पुलिस सीधे तौर पर इसे खुदकुशी का मामला नहीं मान रही थी। पड़ोसियों ने भी बताया कि परिवार की किसी से दुश्मनी नहीं थी। वे धार्मिक प्रवृत्ति के मिलनसार लोग थे। झाबुआ (मध्यप्रदेश) में रहने वाले एक रिश्तेदार आदित्य सिंह सिसोदिया ने कहा, "मेरी शनिवार रात मौसी टीना और मौसा ललित से फोन पर बात हुई थी। तब बिल्कुल भी नहीं लगा कि वे किसी परेशानी या तनाव में थे।

इन लोगों की मौत हुई

भूपी सिंह भाटिया (45), उसकी पत्नी श्वेता (42), बेटी नीतू (24), बेटी मीनू (22) और बेटा ध्रुव (15), भूपी का भाई ललित (42) उसकी पत्नी टीना (38), ललित का बेटा शिवम (12), भूपी की मां नारायण देवी (75), भूपी की बहन प्रतिभा (58), प्रतिभा की बेटी प्रियंका (30)।

रजिस्टर में लिखी मिली ये बातें

—रजिस्‍टर में लिखा है कि पटिया अच्छे से बांधनी हैं, शून्य के अलावा कुछ नही दिखना चाहिए. रस्सी के साथ सूती चुनिया या साड़ी का प्रयोग करना हैं. —सात दिन बाद लगातार पूजा करनी है्. इस पूजा को थोड़ा लग्न और श्रद्धा के साथ करना है। इस पूजा के दौरान अगर कोई घर में आ जाए तो यह पूजा अगले दिन करनी है। —इस पूजा के लिए गुरुवार और रविवार को चुना है। —रजिस्‍टर में लिखा है कि बुजुर्ग महिला बेबे खड़ी नहीं हो सकती तो अलग कमरे में लेट सकती हैं। आपको बता दें कि बुजुर्ग महिला की गला रेत कर —हत्‍या की गई थी। इस महिला का शव दूसरे कमरे में मिला है। —इस रजिस्‍टर में लिखा है कि परिवार के सभी लोगों की सोच एक जैसी होनी चाहिए। ये पहले से ज्यादा दृढ़ता से बढ़ना होगा और ये करते ही तुम्हारे आगे के काम दृढ़ता से शुरू होंगे। —जब सब लोग हत्‍या करेंगे तो उस वक्‍त कमरे में हल्‍की रोशनी होनी चाहिए। —इस रजिस्‍टर में लिखा है कि हाथों की पटिया अगर बच जाए तो उसे आंखों पर डबल कर लेना। इतना ही नहीं मुंह की पट्टी को भी रुमाल से डबलकर लेना है। —बुराड़ी के एक घर में 11 लाशें मिलने के बाद इस पूरे मामले को आत्‍महत्‍या से जोड़कर देखा जा रहा है और इसके घर से जो दो रजिस्‍टर मिले उसमें लिखा है। जितनी दृढ़ता और श्रद्धा दिखाओगे उतना ही उचित फल मिलेगा। —इस रजिस्‍टर में लिखा है रात्रि के 12 से 1 के बीच क्रिया करनी हैं उसके पहले हवन करना है।