मासूम का दर्द: आंटी चॉकलेट देकर भेज देती थीं, कमरे में अंकल लोग करते थे गंदे काम

23_1510872031
भोपाल। मप्र की राजधानी भोपाल के जहांगीराबाद थाना क्षेत्र से गुरुवार को एक सनसनीखेज वारदात सामने आई है जहां 10 वर्षीय नाबालिग के साथ पिछले कई दिनों से सामूहिक दुष्कर्म किया जा रहा था। हैरानी की बात यह है कि इस नाबालिग को बहला-फुसला कर हैवानों तक पहुंचाने का काम एक महिला किया करती थी। इसकी भनक तब लगी जब 10 वर्षीय नाबालिग की तबीयत बिगड़ गयी और उसने खाना-पीना तक छोड़ दिया। जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया…

भोपाल। मप्र की राजधानी भोपाल के जहांगीराबाद थाना क्षेत्र से गुरुवार को एक सनसनीखेज वारदात सामने आई है जहां 10 वर्षीय नाबालिग के साथ पिछले कई दिनों से सामूहिक दुष्कर्म किया जा रहा था। हैरानी की बात यह है कि इस नाबालिग को बहला-फुसला कर हैवानों तक पहुंचाने का काम एक महिला किया करती थी। इसकी भनक तब लगी जब 10 वर्षीय नाबालिग की तबीयत बिगड़ गयी और उसने खाना-पीना तक छोड़ दिया। जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसकी इलाज चल रही हैं।

पीड़ित बच्ची ने पुलिस को बताया कि पड़ोस में रहने वाली सुमन आंटी चाकलेट देकर मुझे कमरे में भेजती थी जहां पहले ही अंकल लोग मौजूद रहते थे जो बारी-बारी से मेरे साथ गंदे काम करते थे। इतना ही नहीं, पुलिस ने बताया कि रेप के बाद बच्ची को धमकी दी जाती थी कि यदि ये बात उसने किसी को बताई तो वो उसकी मां और बहन को जान से मार देंगे। बच्ची की मां की शिकायत पर जहांगीराबाद पुलिस ने गैंगरेप और पॉक्सो एक्ट की धाराओं में केस दर्ज कर चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

{ यह भी पढ़ें:- जम्मू कश्मीर में कठुआ गैंगरेप के खिलाफ छात्रों का प्रदर्शन, सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी }

इस मामले में पुलिस ने सुमन को हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की। इसके बाद आरोपी 67 वर्षीय नन्नू दादा, गोकुल चौरसिया, ज्ञानेंद्र पंडित को भी पोक्सो एक्ट के तहत गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों में नन्नू चौकीदारी करता है, गोकुल की पान की दुकान है और ज्ञानेंद्र ड्राइवर है।

{ यह भी पढ़ें:- छग मेँ 10 साल की बच्ची से दुष्कर्म, हत्या     }

Loading...