1. हिन्दी समाचार
  2. गणपति विसर्जन के दौरान नाव पलटने से 11 की मौत

गणपति विसर्जन के दौरान नाव पलटने से 11 की मौत

11 Killed By Boat Capsize During Ganapati Immersion

By बलराम सिंह 
Updated Date

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में खटलापुरा घाट पर शुक्रवार तड़के गणपति विसर्जन के दौरान नाव पलटने से कई लोग डूब गए। अभी तक 11 शव बरामद किए जा चुके हैं। नौ लोगों को सकुशल बचा लिया गया है। कई लोग अभी तक लापता बताए जाते हैं। लापता लोगों की तलाश के लिए नदी में गोताखोरों की टीम उतारी गई है।

पढ़ें :- विश्व के सबसे बड़े पर्यटन क्षेत्र के रूप में उभर रहा है केवड़िया: PM मोदी

बताया जाता है कि पिपलानी इलाके में चल रहे समारोह के बाद लोग गणेश प्रतिमा का विसर्जन करने के लिए घटनास्‍थल पर पहुंचे थे। सुबह करीब 4:30 बजे काफी संख्या में लोग नाव पर सवार होकर गणपति विसर्जित करने के लिए जा रहे थे।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि दो नावें आपस में जुड़ी थीं, इन पर 22-25 लोग सवार थे। सभी लोग 20 से 30 साल उम्र के थे। मूर्ति बड़ी होने के चलते एक नाव का संतुलन बिगड़ गया,जिससे वह डूब गई। बचने के लिए इस नाव पर सवार लोग दूसरी पर कूद गए, जिसके बाद दूसरी नाव का भी संतुलन बिगड़ गया और देखते ही देखते दोनों नावें डूब गईं।

हादसे की जानकारी मिलते ही एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंच गई है। मध्‍य प्रदेश सरकार ने मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपए की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है। वहीं घायलों को 50-50 रुपए की सहायता राशि प्रदान की जाएगी।
अब तक की पड़ताल में हादसे को लेकर गंभीर लापरवाही की बात सामने आ रही है। गणेश विसर्जन के दौरान यहां पुलिस की ओर से भी सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं था। उधर मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने हादसे के मजिस्‍ट्रेटी जांच के निर्देश दिए हैं।
परिजनों का रो रोकर बुरा हाल
हादसे के बाद मृतकों के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, विधायक विश्वास सारंग, पूर्व महापौर कृष्णा गौर हमीदिया ने अस्पताल पहुंच कर परिजनों को ढांढस बंधाया। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि यदि प्रशासन मुस्तैद होता तो यह हादसा नहीं होता। कमलनाथ सरकार के मंत्री पीसी शर्मा, विधायक आरिफ मसूद भी अस्पताल में मौजूद थे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...