स्कूल वालों की डांट से नाराज छात्र ने की आत्महत्या, एफआईआर दर्ज

i

लखनऊ।उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के चिनहट के इंदिरा नहर में 11वीं कक्षा के छात्र ने छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली। तीन दिन बाद उसका शव नहर में उतराता मिला। मंगलवार को परिवार वालों ने उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई थी। दो दिन पहले उसकी स्कूल ड्रेस, बैग आनंदी वॉटर पार्क के पास लावारिस हालत में पड़ा मिला था। छात्र की आत्महत्या के मामले में परिवार वाले स्कूल मैनेजमेंट और प्रिंसिपल पर प्रताडऩा का आरोप लगा चिनहट थाने में रिपोर्ट दर्ज करायी है।

11th Class Student Commits Suicide Fir Registered :

चिनहट के अनौरा निवासी वीरेन्द्र कुमार यादव अपने परिवार संग रहते हैं। उनका बेटा 15 वर्षीय आशुतोष उर्फ सनी चिनहट के मटियारी स्थित डायमंड पब्लिक स्कूल में 11वीं का छात्र था। भाई मोहित ने बताया कि मंगलवार को आशुतोष सुबह 8.30 बजे स्कूल गया था।

स्कूल में रजिस्ट्रेशन फार्म भरवाये जा रहे थे। मंगलवार को फार्म भरने के लिए वह फोटो ले जाना भूल गया था। इसको लेकर प्रिंसिपल इरशाद आलम ने उसको बहुत डांटा था। वह दोपहर 12.30 बजे वापस घर आया और फार्म में लगाने के लिए फोटो लेकर गया था। आरोप है कि स्कूल पहुंचने पर उसे यह कहकर वापस कर दिया गया कि अब वह फार्म नहीं भर सकता। अंतिम डेट होने के चलते वह परेशान हो गया और वापस स्कूल से घर नहीं लौटा।

मंगलवार देर शाम तक जब वह वापस नहीं लौटा तो परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की। देर रात तक उसकी सुराग न मिलने पर परिवार वालों ने उसी दिन उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी थी। दूसरे दिन आशुतोष की स्कूली ड्रेस और बैग आनंदी वॉटर पार्क से पंजाबी ढाबा के बीच नहर किनारे झाडिय़ों में पड़े मिला था। आशंका जतायी जा रही थी कि आशुतोष ने नहर में छलांग तो नहीं लगा दी है।

शुक्रवार सुबह इंदिरा डैम सिकंदरपुर के पास आशुतोष का शव पानी में उतराता मिला। उसके शरीर पर केवल नेकर थी। पास में रहने वाले एक रिश्तेदार ने शव की पहचान आशुतोष उर्फ सनी के रूप में की। इसके बाद परिजनों को सूचना दी गयी। मौके पर पहुंची पुलिस ने गोताखारों की मदद से शव को बाहर निकाला और पोस्टमार्टम के लिए भेजा। छात्र आशुतोष के भाई मोहित ने बताया कि स्कूल के प्रिंसिपल इरशाद आलम और स्कूल के कई लोग उसे अक्सर प्रताडि़त करते थे।

आये दिन उसे डांटा फटकारा जाता था। इससे वह कई बार डिप्रेशन में चला जाता था। 11वीं क्लास का रजिस्ट्रेशन फार्म न भरने दिये जाने से वह परेशान हो गया। उसके आगे की पढ़ाई बर्बाद होती नजर आ रही थी। इसके चलते उसने आत्महत्या कर ली। परिवार वालों की शिकायत पर चिनहट पुलिस ने स्कूल के प्रिंसिपल और मैनेजमेंट के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है और मामले की छानबीन में जुटी है।

लखनऊ।उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के चिनहट के इंदिरा नहर में 11वीं कक्षा के छात्र ने छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली। तीन दिन बाद उसका शव नहर में उतराता मिला। मंगलवार को परिवार वालों ने उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई थी। दो दिन पहले उसकी स्कूल ड्रेस, बैग आनंदी वॉटर पार्क के पास लावारिस हालत में पड़ा मिला था। छात्र की आत्महत्या के मामले में परिवार वाले स्कूल मैनेजमेंट और प्रिंसिपल पर प्रताडऩा का आरोप लगा चिनहट थाने में रिपोर्ट दर्ज करायी है। चिनहट के अनौरा निवासी वीरेन्द्र कुमार यादव अपने परिवार संग रहते हैं। उनका बेटा 15 वर्षीय आशुतोष उर्फ सनी चिनहट के मटियारी स्थित डायमंड पब्लिक स्कूल में 11वीं का छात्र था। भाई मोहित ने बताया कि मंगलवार को आशुतोष सुबह 8.30 बजे स्कूल गया था। स्कूल में रजिस्ट्रेशन फार्म भरवाये जा रहे थे। मंगलवार को फार्म भरने के लिए वह फोटो ले जाना भूल गया था। इसको लेकर प्रिंसिपल इरशाद आलम ने उसको बहुत डांटा था। वह दोपहर 12.30 बजे वापस घर आया और फार्म में लगाने के लिए फोटो लेकर गया था। आरोप है कि स्कूल पहुंचने पर उसे यह कहकर वापस कर दिया गया कि अब वह फार्म नहीं भर सकता। अंतिम डेट होने के चलते वह परेशान हो गया और वापस स्कूल से घर नहीं लौटा। मंगलवार देर शाम तक जब वह वापस नहीं लौटा तो परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की। देर रात तक उसकी सुराग न मिलने पर परिवार वालों ने उसी दिन उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी थी। दूसरे दिन आशुतोष की स्कूली ड्रेस और बैग आनंदी वॉटर पार्क से पंजाबी ढाबा के बीच नहर किनारे झाडिय़ों में पड़े मिला था। आशंका जतायी जा रही थी कि आशुतोष ने नहर में छलांग तो नहीं लगा दी है। शुक्रवार सुबह इंदिरा डैम सिकंदरपुर के पास आशुतोष का शव पानी में उतराता मिला। उसके शरीर पर केवल नेकर थी। पास में रहने वाले एक रिश्तेदार ने शव की पहचान आशुतोष उर्फ सनी के रूप में की। इसके बाद परिजनों को सूचना दी गयी। मौके पर पहुंची पुलिस ने गोताखारों की मदद से शव को बाहर निकाला और पोस्टमार्टम के लिए भेजा। छात्र आशुतोष के भाई मोहित ने बताया कि स्कूल के प्रिंसिपल इरशाद आलम और स्कूल के कई लोग उसे अक्सर प्रताडि़त करते थे। आये दिन उसे डांटा फटकारा जाता था। इससे वह कई बार डिप्रेशन में चला जाता था। 11वीं क्लास का रजिस्ट्रेशन फार्म न भरने दिये जाने से वह परेशान हो गया। उसके आगे की पढ़ाई बर्बाद होती नजर आ रही थी। इसके चलते उसने आत्महत्या कर ली। परिवार वालों की शिकायत पर चिनहट पुलिस ने स्कूल के प्रिंसिपल और मैनेजमेंट के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है और मामले की छानबीन में जुटी है।