जम्मू में आतंकियो की मदद करने पर कांग्रेसी नेता के भाई समेत 12 पर मुकदमा

Jammu
जम्मू में आतंकियो की मदद करने पर कांग्रेसी नेता के भाई समेत 12 पर मुकदमा

जम्मू। जम्मू कश्मीर में आ​तंकियो की मदद करने के मामले में पूर्व कांग्रेस मंत्री के भाई समेत 12 पर मुकदमा दर्ज किया गया है। बताया गया कि कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता का भाई किश्तवाड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकियों की मदद कर रहा था। घाटी में चलाए जा रहे अभियान के दौरान इस बात की जानकारी हुई तो मुकदमा दर्ज किया गया है।

12 Including Brother Of Congress Leader Sued For Helping Terrorists In Jammu :

जम्मू कश्मीर में जबसे आर्टिकल 370 हटाया गया तभी से स्थानीय पुलिस और सेना द्वारा घाटी में शांति बनाए रखने के लिए कई अभियान चलाये जा रहे हैं। बताया गया कि इस मामले में दो एफाआईआर हुए हैं, पहली एफआईआर में छह लोगों के नाम हैं जबकि दूसरी एफआईआर में प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री जी एम सरूरी के भाई मोहम्मद शफी का भी नाम शामिल हैं, साथ ही उसके आधा दर्जन साथियों के नाम भी सामने आये हैं। सभी आरोपी फरार चल रहे है जिनकी पड़ताल जारी है।

वहीं जब पूर्व कांग्रेस मंत्री सरूरी से पूछा गया तो उन्होने बताया कि जब उन्हे इस बात की जानकारी हुई तो वो हैरान हो गये, उनका दावा है कि उनके लोग कभी ऐसा काम नही कर सकते। अधिकारियों ने बताया कि शफी और पांच अन्य लोगों पर हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों को उनके मंसूबों को अंजाम देने के लिए शरण देने और परिवहन की सुविधा मुहैया कराने के मामले में मुकदमा दर्ज किया गया है। इन सभी पर आरोप है कि इन्होंने परिहार बंधुओं व आरएसएस नेता चंद्रकांत शर्मा की हत्या में शामिल आतंकवादियों को पनाह दी थी।

जम्मू। जम्मू कश्मीर में आ​तंकियो की मदद करने के मामले में पूर्व कांग्रेस मंत्री के भाई समेत 12 पर मुकदमा दर्ज किया गया है। बताया गया कि कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता का भाई किश्तवाड़ में हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकियों की मदद कर रहा था। घाटी में चलाए जा रहे अभियान के दौरान इस बात की जानकारी हुई तो मुकदमा दर्ज किया गया है। जम्मू कश्मीर में जबसे आर्टिकल 370 हटाया गया तभी से स्थानीय पुलिस और सेना द्वारा घाटी में शांति बनाए रखने के लिए कई अभियान चलाये जा रहे हैं। बताया गया कि इस मामले में दो एफाआईआर हुए हैं, पहली एफआईआर में छह लोगों के नाम हैं जबकि दूसरी एफआईआर में प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री जी एम सरूरी के भाई मोहम्मद शफी का भी नाम शामिल हैं, साथ ही उसके आधा दर्जन साथियों के नाम भी सामने आये हैं। सभी आरोपी फरार चल रहे है जिनकी पड़ताल जारी है। वहीं जब पूर्व कांग्रेस मंत्री सरूरी से पूछा गया तो उन्होने बताया कि जब उन्हे इस बात की जानकारी हुई तो वो हैरान हो गये, उनका दावा है कि उनके लोग कभी ऐसा काम नही कर सकते। अधिकारियों ने बताया कि शफी और पांच अन्य लोगों पर हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों को उनके मंसूबों को अंजाम देने के लिए शरण देने और परिवहन की सुविधा मुहैया कराने के मामले में मुकदमा दर्ज किया गया है। इन सभी पर आरोप है कि इन्होंने परिहार बंधुओं व आरएसएस नेता चंद्रकांत शर्मा की हत्या में शामिल आतंकवादियों को पनाह दी थी।