लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को प्रदेश की 126 महिलाओं को रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया। इस मौके पर योगी ने कहा कि ये पुरस्कार अपने और पराए के आधार पर नहीं बल्कि इन महिलाओं द्वारा अपने-अपने क्षेत्र में किए गए योगदान के आधार पर दिए गए हैं।

लखनऊ के लोकभवन में आयोजित कार्यक्रम में योगी ने ठुमरी, दादरा, चौती, होरी व कजरी गायक पंडित धर्मनाथ मिश्र और गजल, ठुमरी व शास्त्रीय संगीत गायक उस्ताद सखावत हुसैन खान को बेगम अख्तर पुरस्कार 2017-18 प्रदान कर सम्मानित किया। पंडित धर्मनाथ मिश्र वाराणसी के और उस्ताद सखावत हुसैन खान रामपुर के निवासी हैं।

{ यह भी पढ़ें:- उन्नाव रेप केस में आरोपी भाजपा विधायक को सीबीआई ने किया गिरफ्तार }

इस मौके पर योगी ने कहा, “हम सबके लिए प्रसन्नता का क्षण है कि एक साथ इतनी महिलाओं को सम्मानित करने का अवसर मिला। पुरस्कार के लिए चयन अपने और पराए के आधार पर नहीं बल्कि उनके अपने-अपने क्षेत्र में किए गए योगदान के आधार पर किया गया है।”

उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष हाईस्कूल व इंटर की परीक्षाओं में टॉप 10 में जगह बनाने वाले मेधावियों को सम्मानित करने का कार्य भी हमने शुरू किया है। यह जानकर अत्यंत प्रसन्नता हुई कि टॉप 10 में शामिल 147 विद्याार्थियों में से 99 सिर्फ बालिकाएं थीं। बालिकाओं ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है।

{ यह भी पढ़ें:- उन्नाव गैंगरेप मामला: HC ने एक घंटे में योगी सरकार से मांगा जवाब, 'विधायक को गिरफ्तार करेंगे या नहीं' }

उन्होंने कहा कि कुछ जिले ऐसे हैं, जहां बालिकाओं के साथ भेदभाव की शिकायतें आती हैं। लिंगानुपात में भारी अंतर देखने को मिल रहा है। भेदभाव खत्म करने को एक वर्ष के दौरान बहुत काम हुआ है, लेकिन अभी और सुधार की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि समाज में बहुत से ऐसे क्षेत्र हैं जिसके लिए कार्य किए जाने की आवश्यकता है। प्रयास समाज के बीच से ही होना चाहिए। जो व्यक्ति समाज के लिए कार्य करेगा, उसे हमारी सरकार सम्मानित करेगी।