1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. देश भर में 14.50 लाख महिलाओं को चाहिए न्‍याय

देश भर में 14.50 लाख महिलाओं को चाहिए न्‍याय

14 50 Lakh Women Need Justice In The Country

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

नई दिल्‍ली । देशभर में करीब 14.50 लाख महिलाएं इंसाफ का इंतजार कर रही हैं. इनमें सबसे अधिक मामले प.बंगाल, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश के हैं. साल दर साल इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटनाओं का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है. यहां सबसे अधिक खराब स्‍थ‍िति उत्‍तरप्रदेश में देखने को मिल रही है. पिछले पांच वर्षों में महिलाओं से जुड़ी अपराध की घटनाएं डेढ़ गुना हो गई हैं. राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आंकड़े बताते हैं कि सरकारी प्रयासों के बावजूद महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है.

पढ़ें :- मुलायम सिंह यादव की हालत में कोई सुधार नहीं, अखिलेश ने की शीघ्र स्वस्थ होने की कामना

वर्ष 2014 में देशभर में महिला अपराध के कुल 3.39 लाख मामले दर्ज किए गए थे वहीं 2018 तक आते-आते यह संख्या बढ़कर 3.78 लाख हो गई. बीते 5 वर्षों में देशभर में दर्ज ऐसे कुल 17.45 लाख मामलों में से सबसे अधिक 2.40 लाख (14%) यूपी के हैं. 2014 में दर्ज 38,918 मामलों के मुकाबले 2018 में 59,445 मामले दर्ज किए गए. इस दौरान प.बंगाल में 1.65 लाख तथा महाराष्ट्र में 1.56 लाख मामले दर्ज किए गए.

एनसीआरबी के अनुसार महिलाओं के प्रति अपराध के 14.50 लाख लंबित मामलों में 20 प्रतिशत से अधिक 2.56 लाख मामले अकेले प.बंगाल के हैं. इसके बाद 1.92 लाख महाराष्ट्र तथा 1.64 लाख मामले यूपी के हैं. सजा केवल 23 फीसदी मामलों में जघन्य अपराध को अंजाम देने के बाद भी अपराधी कई मामलों में बरी हो जाते हैं.

आंकड़े बताते हैं कि ऐसे लगभग 23 प्रतिशत मामलों में ही सजा हो पाती है. यूपी में दर्ज मामलों में सबसे अधिक 60 प्रतिशत में सजा दिलाई गई. प.बंगाल में यह आंकड़ा महज 5.3 प्रतिशत है. जबकि महाराष्ट्र में 13.2 प्रतिशत मामलों में ही सजा हो पाई. न्याय में हो रही देरी के लिए गृह मंत्रालय जांच में देरी को जिम्मेदार ठहराया है. फास्टट्रैक अदालतों की कमी, जांच एजेंसियों द्वारा समय पर कार्रवाई नहीं करना, एफएसएल रिपोर्ट देरी से मिलना इसके प्रमुख कारण हैं. इसके अलावा अदालतों पर बढ़ते बोझ को भी न्याय में देरी का कारण माना गया है.

हाल में गृह राज्य मंत्री ने संसद में स्वीकार किया कि महिला अपराधों में बढ़ोत्तरी हुई है. हालांकि उन्होंने पुलिस तथा न्याय व्यवस्था के मामले में गेंद राज्य के पाले में डालते हुए इसे राज्यों की जिम्मेदारी भी बताया. निर्भया फंड की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि इसके तहत 2019–20 में राज्यों को 4357.62 करोड़ रुपए तथा उसके पिछले पांच वर्षों में 2357.62 करोड़ रुपए की रकम आवंटित की गई थी. यहां राज्यों में महिला अपराध के मामले बड़े राज्‍यों को यदि देखें तो उत्तर प्रदेश पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र के बाद राजस्थान, मध्य प्रदेश, बिहार और गुजरात में दर्ज किए गए हैं.

पढ़ें :- मुगलसराय थाने से हर महीने 35 लाख की वसूली की लिस्ट हुई वायरल, पुलिस विभाग में माचा हड़कंप

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...