एचआईवी पीड़ित लड़की का सपना पूरा, 1 दिन के लिए बनीं पुलिस अफसर

b

गुजरात। गुजरात के राजकोट में रहने वाली 16 साल की एचआईवी ग्रस्त बच्ची जिसका सपना था पुलिस अफसर बनने का और उसका यह सपना साकार हुआ है। राजकोट महिला पुलिस थाने में यह बच्ची पुलिस अफसर बन कर पहुंची थी। जहां पर बाकी पुलिस अफसर ने सेल्यूट कर सम्मान के साथ स्वागत किया था।

16 Year Old Hiv Victims Made Police Officer For 1 Day In Gujarat :

गुजरात के राजकोट में रहने वाली 16 साल की बच्ची पुलिस अधिकारी बनी। आपको सुनने में यकीन नहीं होगा पर यह सच है। 16 साल की बच्ची कैसे बनी पुलिस अधिकारी। पुलिस का नाम सुनते ही लोगो के मन में अलग अलग ख्याल आते हैं लेकिन गुजरात की राजकोट पुलिस ने कुछ ऐसा काम किया हैं जिससे पुलिस के ऊपर रही आपकी सोच बदल जाएगी।

राजकोट में 2003 से कार्यरत एचआईवी ग्रस्त लोगों को संस्था ने 25 बच्चों की इच्छा पूरी करने की नेम ली थी जिसमे कही बच्चों ने मोबाइल, साइकलए जैसी चीजें की मांग की थीं लेकिन एक बच्ची ने पुलिस बनने की इच्छा बताई जिसके चलते संस्था के संचालक ने राजकोट पुलिस कमिश्नर के साथ बैठ कर यह बात बताई थी और पुलिस ने यह बात को मायने रखते आज के दिन राजकोट महिला पुलिस थाने में इस 16 साल की बच्ची पोलिस इन्स्पेक्टर का फर्ज निभाने की जिमेदारी दी थी।

राजकोट की 16 साल की बच्ची जो की जन्म से ही एचआईवी पोसिटिव है। यह बच्ची एचआईवी पोसिटिव होते हुए भी अपनी जि़ंदगी बखूबी जी रही है। राजकोट की इस बच्ची जो जन्म से ही एचआईवी पीडि़त है और इस बच्ची का सपना था की वह एक दिन पुलिस अधिकारी बने लोग क्राइम को जड़ से मिटा दे कल इस बच्ची का सपना पूरा हुआ है।

राजकोट के महिला पुलिस थाने में इस बच्ची ने पोलिस इन्स्पेक्टर का चार्ज संभाला था ओर उसके चलते बच्ची के चहरे पे खुशी दिखने को मिलती थीं और साथ ही में बच्ची ने पुलिस का आभार व्यक्त किया था। राजकोट की डिस्ट्रिक्ट नेटवर्क ऑफ़ पीपल लिविंग विथ एचआईवी संस्था और राजकोट पुलिस की मददसे इस बच्ची का सपना पूरा हुआ है।

राजकोट महिला पुलिस थाने में इस बच्ची ने पोलिस यूनिफार्म पहनकर पुलिस इन्स्पेक्टर का चार्ज सौपा गया था। इस बच्ची को पुलिस इन्स्पेक्टर के पद के लिए ट्रीट कर माहौल खड़ा किया गया था और इस बच्ची का सपना पूरा किया गया था। पुलिस कमिश्नर मनोज अग्रवाल के आदेश से इस 16 साल की बच्ची का सपना पूरा किया गया है।

गुजरात। गुजरात के राजकोट में रहने वाली 16 साल की एचआईवी ग्रस्त बच्ची जिसका सपना था पुलिस अफसर बनने का और उसका यह सपना साकार हुआ है। राजकोट महिला पुलिस थाने में यह बच्ची पुलिस अफसर बन कर पहुंची थी। जहां पर बाकी पुलिस अफसर ने सेल्यूट कर सम्मान के साथ स्वागत किया था। गुजरात के राजकोट में रहने वाली 16 साल की बच्ची पुलिस अधिकारी बनी। आपको सुनने में यकीन नहीं होगा पर यह सच है। 16 साल की बच्ची कैसे बनी पुलिस अधिकारी। पुलिस का नाम सुनते ही लोगो के मन में अलग अलग ख्याल आते हैं लेकिन गुजरात की राजकोट पुलिस ने कुछ ऐसा काम किया हैं जिससे पुलिस के ऊपर रही आपकी सोच बदल जाएगी। राजकोट में 2003 से कार्यरत एचआईवी ग्रस्त लोगों को संस्था ने 25 बच्चों की इच्छा पूरी करने की नेम ली थी जिसमे कही बच्चों ने मोबाइल, साइकलए जैसी चीजें की मांग की थीं लेकिन एक बच्ची ने पुलिस बनने की इच्छा बताई जिसके चलते संस्था के संचालक ने राजकोट पुलिस कमिश्नर के साथ बैठ कर यह बात बताई थी और पुलिस ने यह बात को मायने रखते आज के दिन राजकोट महिला पुलिस थाने में इस 16 साल की बच्ची पोलिस इन्स्पेक्टर का फर्ज निभाने की जिमेदारी दी थी। राजकोट की 16 साल की बच्ची जो की जन्म से ही एचआईवी पोसिटिव है। यह बच्ची एचआईवी पोसिटिव होते हुए भी अपनी जि़ंदगी बखूबी जी रही है। राजकोट की इस बच्ची जो जन्म से ही एचआईवी पीडि़त है और इस बच्ची का सपना था की वह एक दिन पुलिस अधिकारी बने लोग क्राइम को जड़ से मिटा दे कल इस बच्ची का सपना पूरा हुआ है। राजकोट के महिला पुलिस थाने में इस बच्ची ने पोलिस इन्स्पेक्टर का चार्ज संभाला था ओर उसके चलते बच्ची के चहरे पे खुशी दिखने को मिलती थीं और साथ ही में बच्ची ने पुलिस का आभार व्यक्त किया था। राजकोट की डिस्ट्रिक्ट नेटवर्क ऑफ़ पीपल लिविंग विथ एचआईवी संस्था और राजकोट पुलिस की मददसे इस बच्ची का सपना पूरा हुआ है। राजकोट महिला पुलिस थाने में इस बच्ची ने पोलिस यूनिफार्म पहनकर पुलिस इन्स्पेक्टर का चार्ज सौपा गया था। इस बच्ची को पुलिस इन्स्पेक्टर के पद के लिए ट्रीट कर माहौल खड़ा किया गया था और इस बच्ची का सपना पूरा किया गया था। पुलिस कमिश्नर मनोज अग्रवाल के आदेश से इस 16 साल की बच्ची का सपना पूरा किया गया है।