यूपी बोर्ड परीक्षा में सख्ती का असर, फैजाबाद मण्डल में 18366 छात्रों ने छोड़ी परीक्षा

यूपी बोर्ड परीक्षा में सख्ती का गहरा असर, मात्र फैजाबाद मण्डल में 18366 छात्रों ने छोड़ी परीक्षा
यूपी बोर्ड परीक्षा में सख्ती का गहरा असर, मात्र फैजाबाद मण्डल में 18366 छात्रों ने छोड़ी परीक्षा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद 2018 की हाईस्कूल और इंटरमीडियट की परीक्षा में सख्ती के बाद चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं। सिर्फ फैजाबाद मंडल में 18366 छात्रों ने सख्ती के कारण यूपी बोर्ड की परीक्षा छोड़ दी है। फैजाबाद के संयुक्त शिक्षा निर्देशक ओम प्रकाश द्विवेदी के मुताबिक, मंडल के सभी स्कूलों में नकल विहीन परीक्षा कराने के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए है। सख्ती के कारण ही पूरे फैजाबाद मंडल में 18366 छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी है।

इस साल परीक्षा केंद्रों में सीसीटीवी कैमरे लगने के बाद असर साफ दिखाई दे रहा है। बता दें कि योगी सरकार की सख्ती के चलते यूपी बोर्ड की हाई स्कूल और इण्टरमीडिएट की परीक्षा में शुरुआती तीन दिनों में ही परीक्षार्थियों के परीक्षा छोड़ने का आंकड़ा पिछले साल परीक्षा छोड़ने वाले कुल परीक्षार्थियों के आंकड़े को पार कर गया है। जबकि शुरुआती तीन दिनों में नकलचियों की संख्या में गत वर्ष की तुलना में कमी आयी है।

{ यह भी पढ़ें:- मुन्ना बजरंगी गैंग के दो शूटर चढ़े एसटीएफ़ के हत्थे, जेल से मिली थी सुपारी }

गौरतलब है कि वर्ष 1992 में प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह और शिक्षा मंत्री राजनाथ सिंह नकल विरोधी अध्यादेश लाए गए थे। जिसमें परीक्षा में नकल को गैर जमानती अपराध की श्रेणी में डाला गया था। परीक्षा में नकल करते बड़ी संख्या में पकड़े गए विद्यार्थियों को जेल भी जाना पड़ा था।

इस साल यूपी बोर्ड की परीक्षा 6 फरवरी से शुरू हुई थी। जिसमें कुल 66 लाख से ज्यादा छात्र परीक्षा दे रहे हैं। जहां दसवीं में 36,55,691 और बारहवी में 29,81,327 छात्र शामिल हैं। जानकारी के मुताबिक, परीक्षा छोड़ने में सबसे आगे हरदोई जिले के छात्र हैं, जिनकी संख्या करीब 31,000 है। वहीं, दूसरे नंबर पर आजमगढ़ के स्टूडेंट्स हैं। आकड़ों के मुताबिक, परीक्षा छोड़ने में 12वीं के छात्रों की संख्या अधिक रही है।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी बोर्ड के रिकार्ड 10.40 लाख छात्रों ने छोड़ी परीक्षा }

Loading...