1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. 2 October Gandhi Jayanti : इस वजह से देश के लिए आज का दिन है खास, इतिहास मे छुपे कई राज

2 October Gandhi Jayanti : इस वजह से देश के लिए आज का दिन है खास, इतिहास मे छुपे कई राज

2 October Gandhi Jayanti Due To This Today Is A Special Day For The Country Many Secrets Hidden In History

By आराधना शर्मा 
Updated Date

नई दिल्ली: 2 अक्टूबर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जयंती के रूप मे आज के दिन पूरे देश मे गांधी जयंती के रूप मे बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। आपको बता दें, गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। बापू का पूरा नाम मोहनदास करमचन्द गांधी था।

पढ़ें :- इतिहास में पहली बार देश में किसी महिला को होगी फांसी, राष्ट्रपति ने भी दया याचिका की खारिज

आपको बता दें, गांधी जी सत्य और अहिंसा के पूजारी थे। महात्मा गांधी को विश्व पटल पर अहिंसा के प्रतीक के तौर पर जाना जाता है। अहिंसा आंदोलन के दम पर देश को आजादी दिलाने वाले बापू आज भी लोगों के दिलों में जिंदा हैं।

महात्मा गांधी की एजुकेशन

महात्मा गांधी  बैरिस्टर बनना चाहते थे। वे कानून की पढ़ाई करने और बैरिस्टर बनने के लिए लंदन गए थे। उन्होंने लंदन में पढ़ाई कर बैरिस्टर की डिग्री प्राप्त की थी। लेकिन जब गांधी जी भारत वापस आए, तो देश की स्थिति ने उन्हें बहुत प्रभावित किया।

जिसके बाद उन्होंने देश की स्वतंत्रता के लिए लंबी लड़ाई लड़ी और देश को आज़ादी दिलाने में अहम भूमिका निभाई।  गांधी जी के प्रयासों के चलते ही आज हम आजाद देश हैं।

पढ़ें :- 72वें गणतंत्र दिवस के इतिहास की ये खास बातें सुन चौंक जाएंगें आप

कुछ ऐसा इतिहास

गांधी जयंती हर साल 2 अक्टूबर को मनाई जाती है, क्योंकि 2 अक्टूबर के दिन ही गांधी जी का जन्म हुआ था। गांधी जी विश्व भर में उनके अहिंसात्मक आंदोलन के लिए जाने जाते हैं और यह दिवस उनके प्रति वैश्विक स्तर पर सम्मान व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है।

आपको बता दें, गांधी जी कहते थे कि अहिंसा एक दर्शन है, एक सिद्धांत है और एक अनुभव है, जिसके आधार पर समाज का बेहतर निर्माण करना संभव है। गांधी जयंती के दिन लोग राजघाट नई दिल्ली पर गांधी जी की प्रतिमा के सामने श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।

इस दिन राष्ट्रीय अवकाश होता है सभी स्‍कूलों और दफ्तरों में गांधी जयंती का उत्सव हर्षोल्‍लास के साथ मनाया जाता है। हालांकि, इस बार कोरोनावायरस के चलते लोग घरों में ही रहेंगे, लेकिन लोगों का उत्साह पहले की तरह ही है.

पढ़ें :- विश्व हिंदी दिवस: इन महान साहित्यकार ने हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिया किया था संघर्ष

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...