वाघा बॉर्डर से 200 पाकिस्तानी हिंदू आए भारत, बोले- ‘वहां जीना मुश्किल’

वाघा बॉर्डर से 200 पाकिस्तानी हिंदू आए भारत, बोले- ‘वहां जीना मुश्किल’
वाघा बॉर्डर से 200 पाकिस्तानी हिंदू आए भारत, बोले- ‘वहां जीना मुश्किल’

नई दिल्ली। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचार की खबरें आएदिन सामने आती रहती हैं और इसी सिलसिले में भारत सरकार ने हाल ही में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पास किया। वहीं, सोमवार को करीब 200 पाकिस्तानी हिंदू अटारी-वाघा बॉर्डर से भारत आए जिनमें से अधिकतर का कहना है कि वो पाकिस्तान वापस नहीं जाना चाहते हैं। पाकिस्तान में कई ऐसे भी मामले सामने आए हैं जहां हिंदुओं पर हो रही प्रताड़ना का जिक्र हुआ है।

200 Pakistani Hindus Cross Attari Wagah Border Asylum Citizenship Amendment Act :

बताया जा रहा है कि सोमवार को करीब 50 परिवार वाघा बॉर्डर से भारत आए। ये सभी लोग करीब 25 दिन का वीज़ा लेकर भारत आए हैं जोकि हरिद्वार घूमना चाहते हैं। वहीं कुछ लोगों ने अपना दर्द बयां करते हुए यह भी कहा है कि वह वापस पाकिस्तान नहीं जाना चाहते हैं, क्योंकि वहां पर वह खुद को सुरक्षित नहीं महसूस करते हैं।

दूसरी तरफ बॉर्डर पर मौजूद अधिकारियों का मानना है कि जबसे भारत में नागरिकता संशोधन एक्ट पास हुआ है, तब से पाकिस्तान की ओर से आने वाले हिंदुओं की संख्या काफी बढ़ गई है।

गौरतलब है कि मोदी सरकार द्वारा लाए गए नागरिकता संशोधन एक्ट के मुताबिक पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान से आए हिंदू, जैन, सिख, ईसाई, बौद्ध और पारसी शरणार्थियों को भारत की नागरिकता आसानी से मिल सकेगी। सोमवार को जो परिवार भारत आए वो अधिकतर कराची, सिंध इलाके के रहने वाले हैं। वहीं कुछ लोग राजस्थान अपने रिश्तेदारों से मिलने भी जाएंगे, तो वहीं कुछ हरिद्वार घूमने जाएंगे।

नई दिल्ली। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचार की खबरें आएदिन सामने आती रहती हैं और इसी सिलसिले में भारत सरकार ने हाल ही में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पास किया। वहीं, सोमवार को करीब 200 पाकिस्तानी हिंदू अटारी-वाघा बॉर्डर से भारत आए जिनमें से अधिकतर का कहना है कि वो पाकिस्तान वापस नहीं जाना चाहते हैं। पाकिस्तान में कई ऐसे भी मामले सामने आए हैं जहां हिंदुओं पर हो रही प्रताड़ना का जिक्र हुआ है। बताया जा रहा है कि सोमवार को करीब 50 परिवार वाघा बॉर्डर से भारत आए। ये सभी लोग करीब 25 दिन का वीज़ा लेकर भारत आए हैं जोकि हरिद्वार घूमना चाहते हैं। वहीं कुछ लोगों ने अपना दर्द बयां करते हुए यह भी कहा है कि वह वापस पाकिस्तान नहीं जाना चाहते हैं, क्योंकि वहां पर वह खुद को सुरक्षित नहीं महसूस करते हैं। दूसरी तरफ बॉर्डर पर मौजूद अधिकारियों का मानना है कि जबसे भारत में नागरिकता संशोधन एक्ट पास हुआ है, तब से पाकिस्तान की ओर से आने वाले हिंदुओं की संख्या काफी बढ़ गई है। गौरतलब है कि मोदी सरकार द्वारा लाए गए नागरिकता संशोधन एक्ट के मुताबिक पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान से आए हिंदू, जैन, सिख, ईसाई, बौद्ध और पारसी शरणार्थियों को भारत की नागरिकता आसानी से मिल सकेगी। सोमवार को जो परिवार भारत आए वो अधिकतर कराची, सिंध इलाके के रहने वाले हैं। वहीं कुछ लोग राजस्थान अपने रिश्तेदारों से मिलने भी जाएंगे, तो वहीं कुछ हरिद्वार घूमने जाएंगे।