साल 2016 की ये बड़ी घटनायें पढ़कर कांप जाएगी आपकी रूह

लखनऊ। साल 2016 हमसे अलविदा कहने के कगार पर है। आने वाले साल में हम नए सपने, नई उम्मीद के साथ जीना शुरू करेंगे। साल 2016 के जाने के बाद अगर हमारे पास कुछ रह जाएगा तो वो है पुरानी खट्टी-मीठी यादें। लेकिन इस साल ने जाते-जाते अपने साथ अपराधों की एक लंबी फेहरिस्त छोड़ दी, जिसकी कल्‍पना मात्र से आपकी रूह कांप जाएगी। कौन भूल पाएगा बीच सड़क पर सरेआम लुटती माँ-बेटी की इज़्ज़त का वह दर्दनाक मंजर। किसके रोंगटे नहीं खड़े हो जाएंगे जाट आंदोलन की आड़ में हुए जघन्य कांड को याद कर।




जब भी देश में ऐसी घटनायें घटी, पूरा देश सड़क पर उतर एक सुर में विरोध करता नज़र आया। फिर उसके बाद ऐसा लगा कि शायद अब भविष्य में ऐसी घटना देखने को नहीं मिलेगी लेकिन हुआ इसके विपरीत। देश में निरंतर अंतराल पर ऐसी घटनायें घटती रही, चाहे वो बुलंदशहर गैंगरेप कांड हो या फिर मुरथल गैंगरेप या फिर छोटे पर्दे की बड़ी एक्‍टर प्रत्‍युषा बनर्जी की खुदकुशी का केस जिसके बाद पूरा देश सकते में आ गया था। ऐसे अपराधों की लिस्‍ट काफी लंबी है लेकिन कुछ ऐसे ही चर्चित मामलों के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं।



कुछ ऐसी बहुचर्चित घटनायें—

बुलंदशहर गैंगरेप और लूटकांड

नोएडा से शाहजहांपुर जा रहे परिवार को दिल्ली-कोलकाता राष्ट्रीय राजमार्ग पर बुलंदशहर में रोककर 5 दरिन्दों के समूह ने पहले लूटपाट की और फिर मां-बेटी के साथ सामूहिक बलात्कार किया था। बदमाशों ने कार में बैठी महिलाओं और पुरुषों को हाई-वे से कुछ दूर खेत में ले जाकर बंधक बना लिया था। इसके बाद इन लोगों ने नकदी समेत जेवर लूट लिए थे। बाद में मां-बेटी के साथ सामूहिक बलात्कार को भी अंजाम दिया था। इस घटना के बाद यूपी सरकार की काफी किरकिरी हुई थी और मामला कई दिनों तक मीडिया की सुर्खियों में छाया रहा था।



मुरथल गैंगरेप

हरियाणा में हुए जाट आंदोलन के बाद आई एक खबर ने हड़कंप मचा दिया था। सोनीपत के पास एनएच-1 पर फेमस मुरथल ढाबे के पास महिलाओं से गैंगरेप किया गया था। मौके से महिलाओं के अंडरगारमेंट्स मिले थे। शुरू में तो मुरथल में गैंग रेप की घटना से पुलिस इंकार करती रही थी लेकिन ढाबे के पास से महिलाओं के जो फटे कपड़े मिले वो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए थे। इसके बाद मीडिया में जब मामले को उठाया गया तब मामले ने तूल पकड़ लिया था।




मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक करीब 30 लोगों की भीड़ ने कई कारों को रोका और इनमें आग लगा दी थी। इन लोगों ने 10 महिलाओं के साथ गैंगरेप किया था। इनके कपड़े तक फाड़कर फेंक दिए गए थे। बाद में घरवालों और आसपास के लोगों ने इन्हें कपड़े दिए तब जाकर महिलाएं खेतों से बाहर आ सकीं थी।

खाकीधारी बदमाशों ने घर में तीन महिलाओं से किया गैंगरेप

ग्रेटर नोएडा में हथियारों से लैश बदमाशों ने घर में घुसकर न सिर्फ लूटपाट की थी बल्कि तीन महिलाओं से गैंगरेप कर फरार हो गए थे। रात में करीब 12:30 पर छह-सात लोग घर के बाहर आए थे। उन्होंने खुद को पुलिसकर्मी बताते हुए घर की तलाशी लेने को कहा। जैसे ही दरवाजा खुला बदमाशों ने महिला पर बंदूक तान दी और एक-एक कर बलात्‍कार किया था। इतना ही उसके बाद भी बदमाश ऐसे ही दो घरों में घुसे थे और दो और महिलाओं के साथ सामूहिक बलात्‍कार किया था।



प्रत्‍युषा बनर्जी सुसाइड केस

मशहूर टीवी शो ‘बालिका वधू’ की ‘आनंदी’ प्रत्युषा बनर्जी ने खुदकुशी कर ली थी। ब्वॉयफ्रेंड से अनबन के बाद प्रत्‍युषा ने यह कदम उठाया था। प्रत्‍युषा बनर्जी की मौत के बाद कई चौकाने वाले खुलासे हुए थे। प्रत्युषा की आत्महत्या से पहले उसकी उसके बॉयफ्रेंड राहुल राज सिंह से हुई बातचीत की रिकॉर्डिंग सामने आई तो पता चला कि राहुल उसे प्रॉस्टिट्यूशन के काम में धकेलना चाहता था। वहीं यह भी दावा किया गया था कि प्रत्‍युषा गर्भवती थी और राहुल उस पर गर्भपात का दबाव बना रहा था।

बुजुर्गों के रहस्यमयी कातिल

जून 2016 के दौरान देश की राजधानी दिल्ली में 25 दिनों में 5 कत्ल किए गए। कातिल के निशाने पर थे बुजुर्ग। वो एक ऐसा कातिल था जो सीरियल किलर न होकर भी हर पांचवें दिन किसी का कत्ल कर रहा था वो दिल्ली एनसीआर के बुजुर्गों पर मौत का साया बनकर मंडरा रहा था। बुजुर्ग होने की वजह लोग कत्ल के लिए आसान शिकार बन रहे थे। जून माह के 25 दिनों में ही दिल्ली एनसीआर में 5 से ज्यादा बुजुर्गों की बेरहमी से हत्या की गई। इस मामले में पुलिस अभी तक कोई खुलासा नहीं कर पाई है।







रेप के आंकड़ों में बढ़ोतरी

इस साल ने रेप के मामले में 2015 को भी पीछे छोड़ दिया। आकड़ो के हिसाब से 2015 में कुल 34,000 रेप केस हुए थे पर इस साल यह आकड़े पीछे छूट गये है , अभी तक कुल 36000 रेप के मामले दर्ज हुए है।

 

रिपोर्ट–अनुराग सिंह