23 जनवरी को सार्वजनिक होंगी नेता जी से जुड़ी फाइलें, पीएम मोदी ने कहा इतिहास को दबाने की जरूरत नहीं

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को नेता जी सुभाष चन्द्र बोस के परिवार केे 35 सदस्यों से मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद प्रधानमंत्री ने नेता जी की जयंती के दिन 23 जनवरी 2016 को उनसे जुड़ी फाइलों को सार्वजनिक करने की घोषणा करते हुए कहा कि इतिहास को दबाने की जरूरत नहीं है, जो देश अपना इतिहास भुला देते हैं उनमें अपना इतिहास लिखने की दम नहीं होती।

मिली जानकारी के मुताबिक देश विदेश से आए नेता जी के परिवार के 35 सदस्यों से प्रधानमंत्री की मुलाकात करीब एक घंटे तक चली। जिसके बाद प्रधानमंत्री ने कहा कि नेता जी के परिवार का स्वाागत करना मेरे लिए सम्मान की बात है। मैने नेता जी के परिवार से कहा है कि वे मुझे अपने परिवार का ही सदस्य माने। इस मुलाकात के दौरान उन्होंने अपने सुझाव मुझे दिए हैं।

इसके साथ प्रधानमंत्री ने नेता जी के परिवार को भरोसा दिलाया है कि वह अन्य देशों से भी व्यक्तिगत रूप से अपील करेंगे कि वह नेता जी से जुड़े दस्तावेज सार्वजनिक करें। उम्मीद की जा रही है जिसकी शुरूआत वह अपने आगामी  रूस दौरे से करेगे।

सुर्खियों  में रही इस मुलाकात के दौरान विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और पश्चिम बंगाल से बीजेपी सांसद बाबुल सुप्रियो भी मौजूद रहे।

आपको बता दें की नेता जी से जुड़े दस्तावेजों को लेकर पिछले 70 सालों से राजनीति होती आई है। मौजूदा समय में यह मुद्दा पश्चिम बंगाल की राजनीति में छाया हुआ है। पश्चिम बंगाल की ममता सरकार पिछले दिनों नेता जी से जुड़ी कुछ 32 फाइलें सार्वजनिक कर चुकी है।

Loading...