भगवान भरोसे शहर की सुरक्षा, बंद होंगे 70 चौराहों पर लगे 280 सीसीटीवी कैमरे

लखनऊ| शहर के चौराहों पर लगे 280 सीसीटीवी कैमरों जल्द ही बंद किए जा सकते हैं| यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 12 अप्रैल 2015 को
‘स्मार्ट सिटी सर्विलांस सिस्टम दृष्टि का उदघाटन किया था जिसके लिए शहर भर में 70 चौराहों पर लगे 280 सीसीटीवी कैमरे लगवाए गए थे| जिस कंपनी को इन सीसीटीवी कैमरों को लगवाने का टेंडर दिया गया था उसका शासन स्तर से आठ करोड़ से अधिक बिल का भुगतान ही नहीं किया गया| भुगतान न होने के चलते राजधानी के सभी प्रमुख चौराहों पर लगे कैमरे कभी भी बंद किए जा सकते हैं| दृष्टि के कंट्रोल रूम में मौजूद निजी कंपनी के टेक्निकल स्टाफ के मुताबिक तीन साल का टेंडर था, जो आठ महीने में पूरा होने वाला है, जैसे तैसे सिस्टम चलाया जा रहा है, बहुत जल्द इसे बंद कर दिया जाएगा|




सिस्टम चालू होने के बाद से अब तक बिजली, सीसीटीवी कैमरे, मेंटीनेंस समेत अन्य किसी भी चीज का संबंधित कंपनी को शासन स्तर से बिल का भुगतान नहीं हुआ है| गोमतीनगर के विपिनखंड स्थित चीनी निगम की बिल्डिंग में संचालित स्मार्ट सिटी सर्विलांस सिस्टम दृष्टि के कंट्रोल रूम से 70 प्रमुख चौराहों पर लगे 280 सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से कई बार पुलिस ने अपराधियों को चिह्न्ति कर गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की| कंट्रोल रूम में अधिकारी बैठकर पूरे शहर के पुलिस के साथ यातायात व्यवस्था की भी मॉनीटरिंग कर चुके हैं| ऐसे में अगर भुगतान के अभाव में सीसीटीवी कैमरे बंद हुए तो सबसे बड़ा नुकसान राजधानी पुलिस का ही होने वाला है|




कंट्रोल रूम के अधिकारियों के मुताबिक अधिकांश कैमरे खराब पड़े हैं। उधर, निजी कंपनी के टेक्निकल स्टाफ का कहना है कि भुगतान न होने की वजह से कुछ जगहों के कैमरे बंद किए गए हैं|

Loading...