2जी घोटाले पर सुप्रीम कोर्ट की मोहर पहले ही लग चुकी: जेटली

arun-jaitley

नई दिल्ली। सीबीआई विशेष अदालत द्वारा 2जी स्पैक्ट्रम घोटाले में आरोपी बनाए गए सभी 25 लोगों के बरी किए जाने के बाद विपक्ष ने हंगामा खड़ा कर दिया है। अदालत के फैसले का हवाला देते हुए कांग्रेसी नेता 2जी स्पैक्ट्रम घोटाले को काल्पनिक और बीजेपी की ओर से सत्ता प्राप्ति के लिए किया गया राजनीतिक दुष्प्रचार करार दे रही है।

कांग्रेसी नेताओं के बयानों पर प्रतिक्रिया ​जाहिर करते हुए केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि जिस 2जी स्पैक्ट्रम घोटाले को कांग्रेस दुष्प्रचार और काल्पनिक करार दे रही है उसे देश की सर्वोच्च अदालत पहले ही स्वीकार चुकी है। सुप्रीम कोर्ट ने 2007—2008 में आवंटित हुए 2जी स्पैक्ट्रम आंवटन में नीतिगत खामियों को आधार बनाते हुए ही 2012 में पूर्व में आवंटित हुए 121 स्पैक्ट्रम आवंटन रद्द किए गए थे।

{ यह भी पढ़ें:- मोदी सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने दिया इस्तीफा }

अरुण जेटली ने कहा कि यूपीए—1 के कार्यकाल में जिस स्पैक्ट्रम आवंटन नीति को अपनाया गया वह पूरी तरह से गलत मानसिकता से प्रभावित थी। सुप्रीम कोर्ट ने इस नीति पर कई सवाल उठाए थे। जोकि निम्न हैं—

1. साल 2007—08 में नए स्पैक्ट्रम की नीलामी नहीं की गई और 2001 में तय की गई 1734 रुपए प्रति स्पैक्ट्रम की पुरानी कीमतों पर ही नए आवंटन करना सरकार की मंशा पर सवाल खड़ा करता है। जिससे सीधे तौर पर सरकारी खजाने को नुकसान हुआ।

{ यह भी पढ़ें:- स्वास्थ्य लाभ ले रहे अरूण जेटली ने सोशल मीडिया से विपक्ष को बनाया निशाना, कहीं ये बाते... }

2. पहले आओ पहले पाओ की नीति लागू की गई। ​एक सोची समझी रणनीति के तहत स्पैक्ट्रम कीमतों का खुलासा कुछ कंपनियों को पहले ही कर दिया गया। जिस वजह से कीमतें सार्वजनिक होने से पहले ही कुछ कंपनियों ने अपने ड्रॉफ्ट बनवा लिए थे। ये कंपनियां कागजी टेलीकॉम कंपनियां थीं, जोकि किसी प्रकार से टेलीकॉम सेवाएं प्रदान नहीं करतीं थीं।

3. बड़े स्तर पर ऐसी कागजी टेलीकॉम कंपनियों को स्पैक्ट्रम का आवंटन किया गया है। जिसे बाद में वास्तविक टेलीकॉम कंपनियों को बेंचा गया।

4.कागजी टेलीकॉम कंपनियों ने असली कंपनियों को स्पैक्ट्रम बेंचकर चार से पांच गुना मुनाफा कमाया। जोकि ​नीलामी की प्रक्रिया को अपनाए जाने पर सरकार के खाते में जाना चाहिए था।

{ यह भी पढ़ें:- कुमार विश्‍वास ने जेटली से मांगी माफी, वापस लिया मानहानि केस }

5. वास्तविक टेलीकॉम कंपनियों को पीछे रखने के लिए पहले आओ पहले पाओं नीति लागू की गई।

नई दिल्ली। सीबीआई विशेष अदालत द्वारा 2जी स्पैक्ट्रम घोटाले में आरोपी बनाए गए सभी 25 लोगों के बरी किए जाने के बाद विपक्ष ने हंगामा खड़ा कर दिया है। अदालत के फैसले का हवाला देते हुए कांग्रेसी नेता 2जी स्पैक्ट्रम घोटाले को काल्पनिक और बीजेपी की ओर से सत्ता प्राप्ति के लिए किया गया राजनीतिक दुष्प्रचार करार दे रही है। कांग्रेसी नेताओं के बयानों पर प्रतिक्रिया ​जाहिर करते हुए केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि जिस 2जी…
Loading...