2nd Oneday: धोनी की जुझारू पारी से भारत ने दक्षिण अफ्रीका के सामने रखा 248 रनों का लक्ष्य

इंदौर। मध्य प्रदेश के इंदौर में स्थित होल्कर क्रिकेट स्टेडियम में भारत-दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले जा रहे दूसरे एकदिवसीय मुक़ाबले में भारत ने पहले बल्लबाजी करते हुए दक्षिण अफ्रीका के सामने 248 रनों की चुनौती रखी है। भारत के सम्मानजनक स्कोर में भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी द्वारा बनाए गए 92 रनों का अहम योगदान रहा। इसके अलावा तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे अजिंक्य रहाणे से 51 रनों की जुझारू पारी खेली। दक्षिण अफ्रीका की ओर से डेल स्टेन सबसे सफल गेंदबाज रहे जिन्होने अपने निर्धारित 10 ओवरों में 49 रन देकर तीन विकेट हासिल किए।

पहले बल्लबाजी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही और पिछले मैच में 150 रनों की पारी खेलने वाले टीम के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा 10 गेंदों में मात्र तीन रन बनाकर पेवेलियन लौट गए। वे पिछले मैच के हीरो रहे इसके बाद बल्लेबाजी करने उतरे अजिंक्य रहाणे ने दूसरे ओपनर शिखर धवन के साथ मिलकर टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचाने का प्रयास जरूर किया लेकिन 12वें ओवर में धवन मोर्ने मोर्कल का शिकार हो गए। इन दोनों बल्लेबाजों के बीच 56 रनों की साझेदारी हुई।

विराट कोहली (12) दुर्भाग्यशाली रहे और रहाणे के साथ तालमेल की कमी की वजह से रन आउट हो पवेलियन लौटे। 100 रन के भीतर शीर्ष तीन बल्लेबाज गंवा चुकी भारतीय टीम की पारी आगे बढ़ाने कप्तान धोनी उतरे। धोनी और रहाणे से भारतीय दर्शकों को काफी उम्मीदें थीं। दोनों के बीच 20 रनों की साझेदारी भी हुई, लेकिन लगातार दूसरा अर्धशतक लगाने के बाद रहाणे इमरान ताहिर की बेहतरीन स्पिन गेंद पर बोल्ड हो गए।

लेग विकेट से बाहर पटकी हुई गेंद पर रहाणे ने स्वीप का प्रयास किया, लेकिन गेंद फिरकी लेती हुई लेग स्टंप से जा टकराई। रहाणे ने 63 गेंदों में छह चौके लगाए। रहाणे के जाने के बाद भारतीय पारी मुश्किल में नजर आने लगी थी, लेकिन सुरेश रैना के शून्य पर लौटने के साथ सम्मानजनक स्कोर भी दूर नजर आने लगा था। लेकिन धोनी ने जिजीविषा दिखाते हुए बेहद धैर्य के साथ क्रीज पर अपने पैर जमाए रखे। धोनी ने भुवनेश्वर कुमार (14) और हरभजन सिंह (22) के साथ क्रमश: 41 और 56 रनों की साझेदारी कर टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

19वें ओवर में मैदान में उतरे धोनी अंत तक नाबाद रहे। उन्होंने 86 गेंदों की अपनी बेहतरीन जुझारू पारी में सात चौके और चार छक्के लगाए। धोनी की बदौलत भारतीय टीम ने आखिरी के 10 ओवरों में 82 रन जोड़े। दक्षिण अफ्रीका के लिए डेल स्टेन ने सर्वाधिक तीन, जबकि मोर्ने मोर्केल और इमरान ताहिर ने दो-दो विकेट चटकाए। पिछले मैच के हीरो रहे रबाडा एकमात्र विकेट हासिल कर सके। ज्यां पॉल ड्यूमिनी पांच से अधिक की इकॉनमी से रन लुटाने वाले एकमात्र गेंदबाज रहे। भारतीय टीम कानपुर में हुआ पहला एकदिवसीय मैच हारकर पांच मैचों की सीरीज में 0-1 से पीछे चल रही है।