इंदौर Oneday: टीम इंडिया व धोनी की वापसी, दक्षिण अफ्रीका को 22 रनों से हराया

इंदौर। भारत क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अपने आलोचकों को करारा जवाब देते हुए इंदौर में खेले गए दूसरे एकदिवसीय मुक़ाबले में अपनी बल्लेबाजी और कप्तानी के बल पर दक्षिण अफ्रीका को 22 रनों से हरा दिया है। इस जीत में भारतीय गेंदबाजों का भी अहम योगदान रहा। खासकर अक्षर पटेल का जिन्होने दक्षिण अफ्रीका के टीम अहम बल्लेबाजों का विकेट हासिल किया। टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने निर्धारित 50 ओवरों में नौ विकेट खोकर 247 रन बनाए थे जिसके जवाब में दक्षिण अफ्रीका टीम 43.4 ओवरों में 225 रनों पर ढेर हो गई। कप्तान धोनी को उनकी शानदार 92 रनों की पारी के लिए मैन ऑफ द मैच के पुरस्कार से नवाजा गया।  

भारत द्वारा मिले 248 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी दक्षिण अफ्रीका टीम को शुरुआत अच्छी मिली और सलामी बल्लेबाज क्विंटन डी कॉक और हाशिम अमला ने पहले विकेट के लिए तेज 40 रनों की साझेदारी की। दक्षिण अफ्रीका का पहला विकेट 7वें ओवर मेन अमला के रूप में गिरा जो 17 रन के निजी स्कोर पर भारतीय स्पिनर अक्षर पटेल की गेंद पर धोनी द्वारा स्टंपिंग कर दिये गए। इसके बाद बल्लेबाजी के लिए फाक डु प्लेसिस मैदान पर आए।    

भारत को अगली सफलता के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ा और 10वें ओवर में क्विंटन डी कॉक (34) भी पेवेलियन लौट गए। उनका विकेट लंबे समय के बाद टीम में शामिल किए गए हरभजन सिंह के खाते में गया। इस समय टीम का स्कोर 52 रन था। हालांकि इसके बाद बल्लेबाजी करने आए जेपी डुमिनी ने डुप्लेसिस के साथ मिलकर टीम को मजबूती देने का प्रयास किया। इन दोनों बल्लेबाजों के बीच तीसरे विकेट के लिए 82 रनों की साझेदारी की।

एक समय ऐसा लग रहा था कि दक्षिण अफ्रीकी टीम बड़ी ही आसानी से एक बार फिर भारत को हार का स्वाद चखाएगी लेकिन पटेल ने टीम को वापसी दिलाते हुए पहले 134 के कुल योग पर डुमिनी फिर अपने अगले ओवर में 141 के कुल योग पर डुप्लेसिस को पेवेलियन की राह दिखाई। डुप्लेसिस ने 56 गेंदों में 51 रनों की अर्धशतकीय पारी खेली। इसके अलावा कोई भी बल्लेबाज ज्यादा देर पर भारतीय गेंदबाजों के सामने टिक न सका और पूरी टीम 225 रनों पर ढेर हो गई। अंत में कगीसों रबाड़ा 19 रन बनाकर नाबाद लौटे।

स्पिन गेंदबाज अक्षर पटेल ने हाशिम अमला (17), फॉफ डू प्लेसिस (51) और ज्यां पॉल ड्यूमिनी के बेहद अहम तीन विकेट चटकाए। अनुभवी स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह ने क्विंटन डी कॉक (34) और फरहान बेहरादीन (18) की पवेलियन की राह दिखाई, जबकि सबसे खतरनाक माने जाने वाले अब्राहम डिविलियर्स (19) की विकेट मोहित शर्मा ने लिया। भुवनेश्वर ने भी आखिरी ओवरों में बेहद कसी हुई गेंदबाजी की और तीन विकेट अपने नाम किए।

इसके पहले टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने धोनी द्वारा बनाए गए अविजित 92 व अजिंक्य रहाणे द्वारा बनाए गए 51 रनों की अर्धशतकीय पारी के बल पर 247 रन बनाए थे। इन दोनों बल्लेबाजों के अलावा शिखर धवन (23) और हरभजन सिंह (22) ही 20 का आकडा पार कर सके थे। भारतीय टीम के चार बल्लेबाज तो दहाई के अंक तक पहुँच भी नहीं सके।

इस जीत के साथ भारत ने पांच मैचों की श्रृंखला में 1-1 से बराबरी कर ली। कानपुर में हुआ पहला एकदिवसीय भारत पांच रनों से हार गया था।