3 जून को EC का ईवीएम चैलेंज, सिर्फ ये दो पार्टियां लेंगी हिस्सा

नई दिल्ली। पिछले दिनों ईवीएम को लेकर देश भर की राजनीतिक पार्टियों ने जमकर हल्लाबोल किया। इस मसले पर अग्रणी रहने वाली आम आदमी पार्टी के विधायक सौरभ भारद्वाज ने तो विधानसभा के भीतर ईवीएम से छेड़छाड़ साबित करने का दावा किया था। बढ़ते बखेड़े को देखते हुए चुनाव आयोग ने भी 3 जून यानी शनिवार का दिन निर्धारित करते हुए ईवीएम चैलेंज आयोजित किया है। इसके लिए आयोग जोर-शोर से तैयारियों में जुटा है। पार्टियों के शक को दूर करने के लिए 3 राज्यों से 12 सीलबंद ईवीएम कड़े पहरे में दिल्ली मंगवाए गए हैं।



यहां से मंगवाई ईवीएम
चुनाव आयोग ने पंजाब के बठिंडा और पटियाला से तीन-तीन मशीनें मंगवाई हैं। बठिंडा के रामपुर फूल और बठिंडा ग्रामीण सीट से मशीनों को चुना गया है। इसके अलावा पटियाला के राजपुरा, गन्नौर और सनोर से भी मशीनें आई हैं। यूपी के गाजियाबाद के मुरादनगर और साहिबाबाद, गौतमबुद्ध नगर के नोएडा और दादरी से भी सीलबंद मशीनें ईवीएम चैलेंज के लिए मंगवाई गई है। साथ ही उत्तराखंड के देहरादून विधानसभा सीट से भी 2 मशीनें दिल्ली पहुंचाई गई हैं। इनमें बैलेट यूनिट, कंट्रोल यूनिट और वीवीपैट भी शामिल हैं।



{ यह भी पढ़ें:- वैज्ञानिकों ने भी लगाई रामसेतु पर मुहर, बताया अद्भुत कारीगरी }

महज 2 पार्टियां होंगी शरीक
हालिया विधानसभा चुनावों के बाद कई पार्टियों ने ईवीएम हैक होने की आशंका जताई थी। पिछले महीने हुई सर्वदलीय बैठक में चुनाव आयोग ने पार्टियों का ये शक दूर करने की कोशिश की थी। लेकिन पार्टियों की मांग पर 3 जून को ओपन चैलेंज का ऐलान किया था हालांकि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी समेत कई पार्टियां चैलेंज के लिए तय नियमों से रजामंद नहीं हैं। कुल मिलाकर सिर्फ एनसीपी और सीपीएम ईवीएम चैलेंज में हिस्सा लेंगी। इन पार्टियों के अलावा सिर्फ आरजेडी ने चैलेंज में शामिल होने की अर्जी दी थी, जिसे चुनाव आयोग ने खारिज कर दिया था।

{ यह भी पढ़ें:- EVM गड़बड़ी पर पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त बोलें- मशीन गलत... }

Loading...