तिहाड़ में बन्द पी चिदंबरम नही खा पायेंगे घर का पका खाना, दिल्ली हाईकोर्ट ने नही दी अनुम​ति

Chidambaram
तिहाड़ में बन्द पी चिदंबरम नही खा पायेंगे घर का पका खाना, दिल्ली हाईकोर्ट ने नही दी अनुम​ति

नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में लगे आरोपों के बाद पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम इन दिनो तिहाड़ जेल में बन्द हैं। गुरूवार को दिल्ली हाईकोर्ट में पी चिदंबरम की बेल याचिका पर सुनवाई होनी थी । इस दौरान पी चिदंबरम की तरफ से बहस कर रहे वकील कपिल सिब्बल ने एक मौखिक अर्जी दाखिल की थी कि चिदंबरम को जेल में घर का पका खाना खाने की स्वीक्रति दी जाये और रोजाना परिवार के सदस्यों से पी चिदंबरम को ​मिलने की अनुमति भी दी जाये। दिल्ली हाईकोर्ट ने मौखिक अर्जी खारिज करते हुए कहा कि जेल में सभी को एक समान भोजन दिया जाता है। वहीं कोर्ट ने जमानत याचिका पर सीबीआई से जबाब मांगा है।

336619 2p Chidambaram Will Not Be Able To Eat Home Cooked Food In Tihar Delhi High Court Did Not Allow :

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को सीबाआई ने आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले बीते 21 अगस्त को उनके जोरबाग आवास से​ गिरफ्तार किया था। चिदंबरम ने हाईकोर्ट में जमानत याचिका दायर की थी। चिदंबरम ने अपनी जमानत याचिका में सफाई देते हुए कहा है कि वह देश के सच्चे नागरिक हैं, पूरी तरह से कानून का पालन करेंगे, देश छोड़कर भागने का कोई सवाल ही नही है, वह अदालत की सारी शर्त मानने को तैयार हैं।

नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले में लगे आरोपों के बाद पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम इन दिनो तिहाड़ जेल में बन्द हैं। गुरूवार को दिल्ली हाईकोर्ट में पी चिदंबरम की बेल याचिका पर सुनवाई होनी थी । इस दौरान पी चिदंबरम की तरफ से बहस कर रहे वकील कपिल सिब्बल ने एक मौखिक अर्जी दाखिल की थी कि चिदंबरम को जेल में घर का पका खाना खाने की स्वीक्रति दी जाये और रोजाना परिवार के सदस्यों से पी चिदंबरम को ​मिलने की अनुमति भी दी जाये। दिल्ली हाईकोर्ट ने मौखिक अर्जी खारिज करते हुए कहा कि जेल में सभी को एक समान भोजन दिया जाता है। वहीं कोर्ट ने जमानत याचिका पर सीबीआई से जबाब मांगा है। पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को सीबाआई ने आईएनएक्स मीडिया मनी लॉन्ड्रिंग मामले बीते 21 अगस्त को उनके जोरबाग आवास से​ गिरफ्तार किया था। चिदंबरम ने हाईकोर्ट में जमानत याचिका दायर की थी। चिदंबरम ने अपनी जमानत याचिका में सफाई देते हुए कहा है कि वह देश के सच्चे नागरिक हैं, पूरी तरह से कानून का पालन करेंगे, देश छोड़कर भागने का कोई सवाल ही नही है, वह अदालत की सारी शर्त मानने को तैयार हैं।