1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. अफसरों की लापरवाही से यस बैंक में फंसे परिवहन निगम के 38 करोड़ रुपये, नई बस खरीदने की थी तैयारी

अफसरों की लापरवाही से यस बैंक में फंसे परिवहन निगम के 38 करोड़ रुपये, नई बस खरीदने की थी तैयारी

By शिव मौर्या 
Updated Date

लखनऊ। वित्तीय संकट से जूझ रहे ‘यस बैंक’ में यूपी राज्य सड़क परिवहन निगम के भी करोड़ों रुपये फंसे हैं। यह मामला तब उजागर हुआ जब यस बैंक पर संकट के बादल मंडराने की खबर सामने आयी। परिवहन निगम को यह खामियाजा सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक बैंकिंग की लापरवाही से भुगतना पड़ा है। परिवहन के अफसरों की माने तो यस बैंक में परिवहन निगम के 38 करोड़ रुपये फंसे हैं। यह रकम नई बस खरीदने के मद की है।

हालांकि कुछ अफसरों की यस बैंक के गिरते शेयर पर पैनी निगाह थी जिससे 385 करोड़ रुपये फंसने से बच गए, नहीं तो कुल 423 करोड़ रुपये फंसते। बता दें कि, परिवहन निगम के चालकों व परिचालकों ने मेहनत करके वर्ष 2018 से 2019 तक खूब कमाई की, जिससे 423 करोड़ रुपये का चार चरणों में यस बैंक में फिक्स डिपॉजिट किया गया।

लखनऊ परिक्षेत्र के एक बड़े अफसर ने बताया कि यस बैंक में एफडी कराने वाले बिचौलिए की टीम ने अधिक ब्याज एवं खुद के फायदे के लिए यह निवेश कराया था। हालांकि, जब परिवहन निगम की कमान डॉ. राजशेखर के हाथों में आयी तो उन्हें बिचौलियों की करतूत का पता चला। इसके बाद यस बैंक से फिक्स डिपॉजिट के 385 करोड़ रुपये निकालकर राष्ट्रीयकृत बैंक में जमा कराया गया।

यस बैंक से फिक्स डिपॉजिट की यह रकम परिवहन निगम ने तीन माह पहले ही वापस ली थी। वहीं, यूपी राज्य सड़क परिवहन निगम के प्रबंध निदेशक डॉ. राजशेखर ने कहा कि इस सिलसिले में यस बैंक के प्रबंधक को पत्र लिखा गया है। उनका कहना है कि सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक बैंकिंग की लापरवाही से यस बैंक में एफडी के 423 करोड़ में से 38 करोड़ रुपये फंस गए हैं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...