अपनी इन मशहूर फिल्मों की वजह से नरगिस बनी बॉलीवुड की मदर इंडिया

अपनी इन मशहूर फिल्मों की वजह से नरगिस बनी बॉलीवुड की मदर इंडिया
अपनी इन मशहूर फिल्मों की वजह से नरगिस बनी बॉलीवुड की मदर इंडिया

मुंबई। बॉलीवुड की मदर इंडिया के नाम से जानी जाने वाली एक्ट्रेस नरगिस दत्त की आज 38वीं पुण्यतिथि है। मशहूर अभिनेता सुनील दत्त की पत्नी नरगिस की मौत 3 मई 1981 को अपने बेटे संजय दत्त की पहली फिल्म रॉकी के प्रीमियर से कुछ ही दिन पहले ही हो गई। आज के समय में भी तमाम अभिनेत्रियां नरगिस की अदाकारी से बहुत कुछ सीखती हैं और उन्हे अपना रोल मॉडल भी मानती हैं। आइए आज उनकी पुण्यतिथि पर उनकी कुछ ऐसे फिल्मों की लिस्ट देखते हैं जिसकी वजह से उन्होने बॉलीवुड बताते हैं इस अदाकारी के कुछ मील के पत्थरों के बारे में।

38th Death Anniversary Of Nargis Dutt :

आग (1948)

यह राज कपूर की बतौर डायरेक्टर और प्रोड्यूसर पहली फिल्म रही। फिल्म की कहानी में राज कपूर का चेहरा जला हुआ है और ये कैसे जला इसी कहानी पर फिल्म बनी है। फिल्म में नरगिस और प्रेमनाथ अहम किरदारों में हैं।

अंदाज (1949)

हिंदी सिनेमा में यह फिल्म सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्मों में शुमार है। फिल्म में नरगिस के साथ राज कपूर और दिलीप कुमार नजर आए। नरगिस एक अमीर खानदान की लड़की हैं, जिससे दिलीप कुमार के किरदार को प्यार हो जाता है लेकिन नरगिस के पिता उसकी शादी एक एनआरआई से कर देते हैं।

बरसात (1949)

आर के स्टूडियोज की बुनियाद का ये फिल्म पहला कामयाब पत्थर है। फिल्म में राज कपूर और नरगिस की जोड़ी ने कमाल कर दिया। फिल्म में प्रेमनाथ और राज कपूर दोस्त होते हैं, जिन्हें कश्मीर घूमते वक्त वहां की दो लड़कियों से प्यार हो जाता है। इसी प्यार के रिश्ते को दो अलग नजरिए से दिखाया है।

जोगन (1950)

1950 में आई यह एक रोमांटिक ड्रामा फिल्म है जिसका निर्देशन केदारनाथ शर्मा ने किया। फिल्म में दिलीप कुमार एक नास्तिक का किरदार निभा रहे हैं जिसे एक शादीशुदा महिला यानी नरगिस से प्यार हो जाता है, जो दुनिया की मोह माया से उचट चुकी है। फिल्म उस साल की चौथी सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म साबित हुई।

दीदार (1951)

नितिन बोस निर्देशित इस फिल्म में अशोक कुमार, दिलीप कुमार, नरगिस और निम्मी अहम भूमिकाओं में हैं। फिल्म एक अधूरे प्यार की कहानी है जो जातिभेद के कारण पूरा नहीं हो पाता है। इसी फिल्म से दिलीप कुमार को ट्रैजेडी किंग का तमगा भी मिला।

आवारा (1951)

राज कपूर और नरगिस की अब तक सुपरहिट हो चुकी जोड़ी की इस फिल्म में राज कपूर के पिता पृथ्वीराज कपूर भी हैं। फिल्म एक कोर्ट के सीन से शुरू होकर फ्लैशबैक में जाती है। इस फिल्म में नरगिस ने एक वकील का किरदार निभाया है। दुनिया भर में धूम मचाने वाली यह पहली हिंदी फिल्म बनी और अमेरिकी न्यूज मैगजीन टाइम ने 2012 में इस फिल्म को दुनिया की 100 बेस्ट फिल्मों में शामिल किया।

श्री 420 (1955)

फिल्म में नरगिस गरीब घराने की लड़की हैं, वहीं राज कपूर इलाहाबाद का एक लड़का है जो बम्बई आकर नरगिस से मिलता है और धीरे-धीरे चोर बन जाता है। फिल्म में राज कपूर और नरगिस के अलावा ललिता पवार और नादिरा भी हैं।

मदर इंडिया (1957)

महबूब खान की इस फिल्म को भारतीय सिनेमा की क्लासिक फिल्मों में सबसे ऊपर जगह मिली हुई है। यह फिल्म भारत की उन फिल्मों से पहली फिल्म है जिन्हें ऑस्कर अवॉर्ड्स का नॉमिनेशन मिला पर बस एक वोट से हार गई। फिल्म में नरगिस दत्त के बेटों के किरदार सुनील दत्त और दिलीप कुमार ने निभाए।

मुंबई। बॉलीवुड की मदर इंडिया के नाम से जानी जाने वाली एक्ट्रेस नरगिस दत्त की आज 38वीं पुण्यतिथि है। मशहूर अभिनेता सुनील दत्त की पत्नी नरगिस की मौत 3 मई 1981 को अपने बेटे संजय दत्त की पहली फिल्म रॉकी के प्रीमियर से कुछ ही दिन पहले ही हो गई। आज के समय में भी तमाम अभिनेत्रियां नरगिस की अदाकारी से बहुत कुछ सीखती हैं और उन्हे अपना रोल मॉडल भी मानती हैं। आइए आज उनकी पुण्यतिथि पर उनकी कुछ ऐसे फिल्मों की लिस्ट देखते हैं जिसकी वजह से उन्होने बॉलीवुड बताते हैं इस अदाकारी के कुछ मील के पत्थरों के बारे में। आग (1948) यह राज कपूर की बतौर डायरेक्टर और प्रोड्यूसर पहली फिल्म रही। फिल्म की कहानी में राज कपूर का चेहरा जला हुआ है और ये कैसे जला इसी कहानी पर फिल्म बनी है। फिल्म में नरगिस और प्रेमनाथ अहम किरदारों में हैं। अंदाज (1949) हिंदी सिनेमा में यह फिल्म सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्मों में शुमार है। फिल्म में नरगिस के साथ राज कपूर और दिलीप कुमार नजर आए। नरगिस एक अमीर खानदान की लड़की हैं, जिससे दिलीप कुमार के किरदार को प्यार हो जाता है लेकिन नरगिस के पिता उसकी शादी एक एनआरआई से कर देते हैं। बरसात (1949) आर के स्टूडियोज की बुनियाद का ये फिल्म पहला कामयाब पत्थर है। फिल्म में राज कपूर और नरगिस की जोड़ी ने कमाल कर दिया। फिल्म में प्रेमनाथ और राज कपूर दोस्त होते हैं, जिन्हें कश्मीर घूमते वक्त वहां की दो लड़कियों से प्यार हो जाता है। इसी प्यार के रिश्ते को दो अलग नजरिए से दिखाया है। जोगन (1950) 1950 में आई यह एक रोमांटिक ड्रामा फिल्म है जिसका निर्देशन केदारनाथ शर्मा ने किया। फिल्म में दिलीप कुमार एक नास्तिक का किरदार निभा रहे हैं जिसे एक शादीशुदा महिला यानी नरगिस से प्यार हो जाता है, जो दुनिया की मोह माया से उचट चुकी है। फिल्म उस साल की चौथी सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म साबित हुई। दीदार (1951) नितिन बोस निर्देशित इस फिल्म में अशोक कुमार, दिलीप कुमार, नरगिस और निम्मी अहम भूमिकाओं में हैं। फिल्म एक अधूरे प्यार की कहानी है जो जातिभेद के कारण पूरा नहीं हो पाता है। इसी फिल्म से दिलीप कुमार को ट्रैजेडी किंग का तमगा भी मिला। आवारा (1951) राज कपूर और नरगिस की अब तक सुपरहिट हो चुकी जोड़ी की इस फिल्म में राज कपूर के पिता पृथ्वीराज कपूर भी हैं। फिल्म एक कोर्ट के सीन से शुरू होकर फ्लैशबैक में जाती है। इस फिल्म में नरगिस ने एक वकील का किरदार निभाया है। दुनिया भर में धूम मचाने वाली यह पहली हिंदी फिल्म बनी और अमेरिकी न्यूज मैगजीन टाइम ने 2012 में इस फिल्म को दुनिया की 100 बेस्ट फिल्मों में शामिल किया। श्री 420 (1955) फिल्म में नरगिस गरीब घराने की लड़की हैं, वहीं राज कपूर इलाहाबाद का एक लड़का है जो बम्बई आकर नरगिस से मिलता है और धीरे-धीरे चोर बन जाता है। फिल्म में राज कपूर और नरगिस के अलावा ललिता पवार और नादिरा भी हैं। मदर इंडिया (1957) महबूब खान की इस फिल्म को भारतीय सिनेमा की क्लासिक फिल्मों में सबसे ऊपर जगह मिली हुई है। यह फिल्म भारत की उन फिल्मों से पहली फिल्म है जिन्हें ऑस्कर अवॉर्ड्स का नॉमिनेशन मिला पर बस एक वोट से हार गई। फिल्म में नरगिस दत्त के बेटों के किरदार सुनील दत्त और दिलीप कुमार ने निभाए।