बेंगलुरु छेड़छाड़ मामला: 10 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजे गए आरोपी

बेंगलुरु। नव वर्ष की पूर्व संध्या पर बेंगलुरु के कम्मनहल्ली रोड पर लड़की के साथ हुई छेड़छाड़ की घटना के सीसीटीवी फुटेज के जरिये पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है जबकि अभी दो आरोपियों की तलाश जारी है। इस घटना को लेकर लेकर राष्ट्रीय स्तर पर गुस्सा जाहिर किया गया। बेंगलुरू पुलिस आयुक्त प्रवीण सूद ने संवाददाताओं को बताया कि आरोपी चार या पांच दिनों से पीड़िता का पीछा कर रहे थे और नया साल मना कर घर लौटने के दौरान उससे छेड़छाड़ की।

ये हैं आरोपी




मुख्य आरोपी का नाम अयप्पा उर्फ नीतीश कुमार है और इसकी उम्र करीब 19 साल है। वह वहीं पास के होटल में डिलिवरी बॉय का काम करता है। आयप्पा ने ही लड़की को पकड़ा था और उसके साथ जबर्दस्ती करने की कोशिश कर रहा था। आयप्पा के अलावा तीन अन्य आरोपी भी पकड़े गए हैं जिनका नाम लेनो(19), सोमशेखर(21) और सुदेश(19) है। जिसमे लेनो और सुदेश भी वहीं उसके साथ ही डिलिवरी बॉय हैं। जबकि चौथा आरोपी सोमशेखर ड्राइवर है।

कैसे पकड़े गए आरोपी

घटना स्थल कम्मनहल्ली के ही रहने वाले एक शख्स फ्रांसिस के घर के बाहर लगे हुए सीसीटीवी में यह पूरी वारदात रिकॉर्ड हो गई। जब इस बात की जानकारी हुई तो फ्रांसिस ने यह फुटेज पुलिस को दी और पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने के बाद साइबर क्राइम एक्सपर्ट्स की मदद से विडियो की छानबीन शुरू कर दी। पुलिस ने करीब 48 घंटों में चार आरोपियों को धर दबोचा।




जब आरोपियों को इस बात की जानकारी हुई कि मीडिया में इस घटना का सीसीटीवी फुटेज आ गया है तो घटना से जुड़े सभी सबूतों को मिटाने के प्रयास में जुड़ गए हैं। उनलोगों ने राज्य छेड़ने का भी सोच लिया था। हालांकि आरोपियों को पुलिस ने गुरुवार को मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जहां से उन्होंने 10 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।