झोलाछाप डॉक्टर ने फैलाया HIV, एक इंजेक्शन से किया 40 मरीजों का इलाज

घोलछाप डॉक्टर ने फैलाया HIV, एक इंजेक्शन से किया 40 मरीजों को इलाज
घोलछाप डॉक्टर ने फैलाया HIV, एक इंजेक्शन से किया 40 मरीजों को इलाज

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उन्नाव ज़िले के बांगरमऊ तहसील के कुछ गांवों में कथित तौर पर एक ही इंजेक्शन के इस्तेमाल से क़रीब 40 लोग एचआईवी संक्रमित हो गए। दरअसल मरीजों का इलाज झोलाछाप डॉक्टर से चल रहा था जहां पर एक ही इंजेक्शन बार-बार इस्तेमाल किया गया, जिससे इन लोगों को संक्रमण हुआ। फिलहाल स्वास्थ्य विभाग ने थाने में अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज करवा दी है।

40 Person Trapped In Hiv Due To Fake Doctor Treatment In Unnao :

यह है पूरा मामला

मिली जानकारी के मुताबिक कुछ गांवों में एक झोलाछाप डॉक्टर साईकिल से घूमकर लोगों का इलाज करता था। एक ही इंजेक्शन के बार-बार इस्तेमाल करने से करीब 40 लोग एचआईवी संक्रमित हो गए। झोलाछाप से इलाज करवाने वाले कुछ और लोगों में एचआईवी संक्रमण के लक्षण दिखे हैं। इसकी पुष्टि के लिए कई जांचें करवाई जा रही हैं।

बांगरमऊ के पार्षद सुनील से बातचीत के दौरान पता चला कि अगर ठीक से जांच करवाई जाए तो 500 मामले में सामने आ जाएंगे। वहीं मेडिकल सुपरिडेंटेंड ने प्रमोद कुमार ने बताया कि ‘हमने यहां पर मेडिकल कैंप लगा रखा है जिसमें इन मामलों की जांच की जा रही है। हमें आदेश मिल चुके हैं और हम आगे की कार्रवाई का फैसला कर रहे हैं। इस मामले के सामने आने के बाद से उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा है कि मामले की जांच की जा रही है। इस मामले के दोषी और बिना लाइसेंस के प्रैक्टिस कर रहे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

दस रुपये में लगाता था इंजेक्शन

बांगरमऊ क्षेत्र में संक्रमण फैलाने वाला झोलाछाप सिर्फ 10 रुपये में लोगों को इंजेक्शन लगाता था। आसपास के कई गांवों के लोग सामान्य बीमारियों में दवाएं लेने के बजाय उससे इंजेक्शन लगवाना पसंद करते थे। वह एक सिरिंज को कई बार इस्तेमाल करने के बाद सिर्फ उसकी सुई बदलता था।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उन्नाव ज़िले के बांगरमऊ तहसील के कुछ गांवों में कथित तौर पर एक ही इंजेक्शन के इस्तेमाल से क़रीब 40 लोग एचआईवी संक्रमित हो गए। दरअसल मरीजों का इलाज झोलाछाप डॉक्टर से चल रहा था जहां पर एक ही इंजेक्शन बार-बार इस्तेमाल किया गया, जिससे इन लोगों को संक्रमण हुआ। फिलहाल स्वास्थ्य विभाग ने थाने में अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज करवा दी है।यह है पूरा मामला मिली जानकारी के मुताबिक कुछ गांवों में एक झोलाछाप डॉक्टर साईकिल से घूमकर लोगों का इलाज करता था। एक ही इंजेक्शन के बार-बार इस्तेमाल करने से करीब 40 लोग एचआईवी संक्रमित हो गए। झोलाछाप से इलाज करवाने वाले कुछ और लोगों में एचआईवी संक्रमण के लक्षण दिखे हैं। इसकी पुष्टि के लिए कई जांचें करवाई जा रही हैं।बांगरमऊ के पार्षद सुनील से बातचीत के दौरान पता चला कि अगर ठीक से जांच करवाई जाए तो 500 मामले में सामने आ जाएंगे। वहीं मेडिकल सुपरिडेंटेंड ने प्रमोद कुमार ने बताया कि 'हमने यहां पर मेडिकल कैंप लगा रखा है जिसमें इन मामलों की जांच की जा रही है। हमें आदेश मिल चुके हैं और हम आगे की कार्रवाई का फैसला कर रहे हैं। इस मामले के सामने आने के बाद से उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा है कि मामले की जांच की जा रही है। इस मामले के दोषी और बिना लाइसेंस के प्रैक्टिस कर रहे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।दस रुपये में लगाता था इंजेक्शनबांगरमऊ क्षेत्र में संक्रमण फैलाने वाला झोलाछाप सिर्फ 10 रुपये में लोगों को इंजेक्शन लगाता था। आसपास के कई गांवों के लोग सामान्य बीमारियों में दवाएं लेने के बजाय उससे इंजेक्शन लगवाना पसंद करते थे। वह एक सिरिंज को कई बार इस्तेमाल करने के बाद सिर्फ उसकी सुई बदलता था।