महाराष्ट्र: सोयाबीन प्रोसेसिंग यूनिट के लिए सरकार ने बाबा रामदेव को आधे दाम पर दी 400 एकड़ जमीन

baba ramdev
महाराष्ट्र: सोयाबीन प्रोसेसिंग यूनिट के लिए सरकार ने बाबा रामदेव को आधे दाम पर दी 400 एकड़ जमीन

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने बाबा रामदेव को लातूर में चार सौ एकड़ जमीन दी है। खास बात ये है कि ये जमीन बाबा रामदेव को पचास फीसदी छूट पर दी गई है। बताया जा रहा है कि ये जमीन मुहैया कराने के लिए सरकार ने बाबा रामदेव को अन्य कई छूट भी दी हैं। इस मामले में खास बात ये है कि जो जमीन रामदेव को ऑफर की गई है, वह भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) फैक्ट्री के लिए 2013 में किसानों से अधिग्रहीत की गई थी।

400 Acres Of Land Given To Baba Ramdev For Soyabean Processing Unit At Half Rate Bu Maharastra Government :

बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने खुद रामदेव को पत्र लिखकर यह प्रस्ताव दिया है। नांदेड़ में 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम में रामदेव और फड़णवीस ने मंच साझा किया था। इस कार्यक्रम के एक सप्ताह के अंदर ही सरकार ने उन्हे ये प्रस्ताव दिया है। महाराष्ट्र सीएम ने रामदेव को खत में लिखा है कि सोयाबीन प्रोसेसिंग यूनिट से ना केवल किसानों को उनकी फसल की अच्छी कीमत मिलेगी, बल्कि इससे रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। साथ ही कहा कि यह प्रस्ताव राज्य सरकार की सूक्ष्म, छोटे और मध्यम उद्योगों को बढ़ाने के लिए भी दिया गया है।

बता दें कि सरकार ने जमीन की कीमत में पचास फीसदी छूट देने के साथ ही स्टैंप ड्यूटी हटाने, रामदेव द्वारा अदा की जाने वाली जीएसटी लौटाने के अलावा एक रुपये प्रति यूनिट की दर से बिजली बिल का भुगतान जैसी सहूलियतों का प्रस्ताव दिया है। इससे फड़णवीस सरकार ने नागपुर में पतंजलि फूड और हर्बल पार्क के लिए रामदेव को मामूली कीमत पर 230 एकड़ जमीन मुहैया कराई थी। हालाकि इस जमीन पर अभी किसी भी तरीके का कोई काम नहीं कराया गया है।

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने बाबा रामदेव को लातूर में चार सौ एकड़ जमीन दी है। खास बात ये है कि ये जमीन बाबा रामदेव को पचास फीसदी छूट पर दी गई है। बताया जा रहा है कि ये जमीन मुहैया कराने के लिए सरकार ने बाबा रामदेव को अन्य कई छूट भी दी हैं। इस मामले में खास बात ये है कि जो जमीन रामदेव को ऑफर की गई है, वह भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) फैक्ट्री के लिए 2013 में किसानों से अधिग्रहीत की गई थी। बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने खुद रामदेव को पत्र लिखकर यह प्रस्ताव दिया है। नांदेड़ में 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम में रामदेव और फड़णवीस ने मंच साझा किया था। इस कार्यक्रम के एक सप्ताह के अंदर ही सरकार ने उन्हे ये प्रस्ताव दिया है। महाराष्ट्र सीएम ने रामदेव को खत में लिखा है कि सोयाबीन प्रोसेसिंग यूनिट से ना केवल किसानों को उनकी फसल की अच्छी कीमत मिलेगी, बल्कि इससे रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। साथ ही कहा कि यह प्रस्ताव राज्य सरकार की सूक्ष्म, छोटे और मध्यम उद्योगों को बढ़ाने के लिए भी दिया गया है। बता दें कि सरकार ने जमीन की कीमत में पचास फीसदी छूट देने के साथ ही स्टैंप ड्यूटी हटाने, रामदेव द्वारा अदा की जाने वाली जीएसटी लौटाने के अलावा एक रुपये प्रति यूनिट की दर से बिजली बिल का भुगतान जैसी सहूलियतों का प्रस्ताव दिया है। इससे फड़णवीस सरकार ने नागपुर में पतंजलि फूड और हर्बल पार्क के लिए रामदेव को मामूली कीमत पर 230 एकड़ जमीन मुहैया कराई थी। हालाकि इस जमीन पर अभी किसी भी तरीके का कोई काम नहीं कराया गया है।