कैसे पांच वर्षों में बढ़ गया बैंको का 400 प्रतिशत एनपीए, मोदी सरकार क्यों कांग्रेस पर फोड़ रही ठीकरा…..

npa
कैसे पांच वर्षों में बढ़ गया बैंको का 400 प्रतिशत एनपीए, मोदी सरकार क्यों कांग्रेस पर फोड़ रही ठीकरा.....

नई दिल्ली। पीएम मोदी के वर्ष 2014 में सरकार में आने के बाद के बैंकों के एनपीए में कई सौ गुना ज्यादा इजाफा हो गए। इस बात का खुलासा हुआ तो सभी के होश उड़ गए। आलम ये है कि बैंकों के एनपीए में करीब चार सौ गुना का इजाफा हुआ है।

400 Percent Bank Npa Increase Within Last 5 Years :

बता दें स्टेट बैंक आफ इण्डिया का वर्ष 2014 में करीब 57,819cr रूपए का एनपीए था, जो वर्ष 2018 में बढ़कर 2,16,228cr हो गया। इसी प्रकार का पंजाब नेशनल बैंक कुल एनपीए वर्ष 2014 में 18,611cr था, जो 2018 में 83,897cr पहुंच गया। वहीं सेन्ट्रल बैंक का एनपीए 2014 में 11,500cr का एनपीए 38,131cr पर पहुंच गया, जबकि बैंक आफ इण्डिया का कुल एनपीए वर्ष 2014 में 10,274cr का एनपीए 2018 में 52,086cr पर पहुंच गया।

ये आंकड़े सामने आने के बाद जब मौजूदा सरकार पर सवाल उठाने शुरु किए तो सरकार तर्क ये था कि कांग्रेस सरकार की करतूत है, जिसकी वजह से बैंकों के एनपीए में इतना इजाफा हुआ है। अब सवाल ये उठता है कि अगर कांग्रेस सरकार में बैंकों में एनपीए था भी, तो बीते पांच सौ वर्षों में इनमें करीब चार सौ फीसदी का इजाफा कैसे हो गया।

नई दिल्ली। पीएम मोदी के वर्ष 2014 में सरकार में आने के बाद के बैंकों के एनपीए में कई सौ गुना ज्यादा इजाफा हो गए। इस बात का खुलासा हुआ तो सभी के होश उड़ गए। आलम ये है कि बैंकों के एनपीए में करीब चार सौ गुना का इजाफा हुआ है।

बता दें स्टेट बैंक आफ इण्डिया का वर्ष 2014 में करीब 57,819cr रूपए का एनपीए था, जो वर्ष 2018 में बढ़कर 2,16,228cr हो गया। इसी प्रकार का पंजाब नेशनल बैंक कुल एनपीए वर्ष 2014 में 18,611cr था, जो 2018 में 83,897cr पहुंच गया। वहीं सेन्ट्रल बैंक का एनपीए 2014 में 11,500cr का एनपीए 38,131cr पर पहुंच गया, जबकि बैंक आफ इण्डिया का कुल एनपीए वर्ष 2014 में 10,274cr का एनपीए 2018 में 52,086cr पर पहुंच गया।

ये आंकड़े सामने आने के बाद जब मौजूदा सरकार पर सवाल उठाने शुरु किए तो सरकार तर्क ये था कि कांग्रेस सरकार की करतूत है, जिसकी वजह से बैंकों के एनपीए में इतना इजाफा हुआ है। अब सवाल ये उठता है कि अगर कांग्रेस सरकार में बैंकों में एनपीए था भी, तो बीते पांच सौ वर्षों में इनमें करीब चार सौ फीसदी का इजाफा कैसे हो गया।