नाहिद की कामयाबी पर 40 मौलानाओं ने जारी किये फ़तवे

गुवाहाटी: मुस्लिम लड़की की कामयाबी पर एक बार फिर मौलानाओं ने फतवा जारी करना शुरू कर दिया है। असम की गायिका नाहिद आफ़रीन पर मुस्लिम धार्मिक नेताओं ने उसके गाने पर आपत्ति जताते हुए फतवा जारी कर दिया है कि एक मुसलमान के नाते उसका धर्म उसे गाने की इजाज़त नहीं देता क्योकि वो उसकी शरीयत के खिलाफ है। वही नाहिद ने भी साफ कह दिया है, ‘पहली बार फतवे के बारे में सुनकर उसे धक्का लगा लेकिन फिर मुझे कई मुसलमान गायकों से प्रेरणा मिली जिसके बाद मैंने तय किया कि मैं संगीत को कभी नहीं छोड़ूंगी।’



नाहिद असम की रहने वाली एक मुसलमान किशोरी गायिका है जिसकी उम्र 16 साल है। नाहिद आफरीन को दो साल पहले एक टैलेंट शो से गायकी में शोहरत हासिल हुई थी। इसके बाद नाहिद को सोनाक्षी की फिल्म अकीरा में प्लेबैक सिंगर के रूप मे गाने का अवसर मिला।




नाहिद की कामयाबी पर मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने ट्वीट कर कहा है कि प्रतिभाशाली गायिका नाहिद आफरीन को सार्वजनिक मंच पर गाने से रोकने वाली संस्थाओं के इस कदम की हम निंदा करते हैं। फतवे के चलते नाहिद की जान को खतरा होने के कारण सरकार ने उसे सुरक्षा मुहैया कराने की गारंटी भी दी है। वहीं कुछ लोगों का ये भी कहना कि नाहिद पर फतवा शायद इसलिय जारी किया गया है कि उसने आतंकवाद के खिलाफ गीत गाये हैं।

loading…


Loading...