वाराणसी में पटाखा फैक्ट्री में धमाका, पांच की मौत

वाराणसी। यूपी के वाराणसी में मंगलवार देर रात चेतगंज इलाका एक तेज धमाके के साथ दहल उठा। जब लोग कुछ समझते तो आसमान में धुंए का एक बड़ा गुबार उठता दिखाई दिया। धमाका इतनी तेज था कि इसकी गूंज कई किलोमीटर तक सुनाई दी। जिसके बाद घटना स्थल के पास भीड़ जुटना शुरू हो गई। मौके पर पहंचे फायरब्रिगेड ने आग पर काबू पाकर राहत कार्य शुरू किया। घर के भीतर से 5 शव निकाले जा चुके हैं जबकि आधा दर्जन घायलों को इलाज के लिए बीएचयू ट्रामा सेन्टर में भर्ती करवाया गया है।




पितरकुंडा के पास कब्रिस्तान के पास स्व. हनीफ का पुराना मकान है जिसमें उनके पुत्र हमीद, हबीब और रफीक रहते हैं। उनके मकान अगल-बगल हैं। बीच में हबीब का मकान है। इसमें किरायेदार भी हैं। दीपावाली के मौके पर वे आतिशबाजी तैयार कर रहे थे। उन्होंने काफी मात्रा में आतिशबाजी तैयार कर रखी थी। रात में आतिशबाजी तैयार की जा रही थी कि तभी तेज धमाका हुआ। उसके बाद हबीब के मकान में लोग चीखने-चिल्लाने लगे। लोग जब वहां पहुंचे तो देखा छत ध्वस्त हो गयी थी और मकान में आग लग गयी। घटना की सूचना मिलने पर जब पुलिस पहुंची और अग्निशमन दल की मदद से आग पर काबू पाने के बाद वहां छानबीन की गयी तो पता चला कि धमाका सिलेंडर में नहीं बल्कि आतिशबाजी में हुआ था। वहां से बारूद की तेज गंध आ रही थी। पुलिस को पूछताछ पता चला कि यहां पटाखा बनाने की अवैध फैक्ट्री चल रही थी।





धमाके की खबर मिलते ही एसपी सिटी भी पहुंच गये। अधिकारियों के निर्देशपर मलबा हटाया गया। देर रात जब मलबा हटाया गया तो उसमें से पहले एक महिला की लाश मिली और उसके बाद दो पुरुषों की लाश मिली तो हड़कम्प मच गया। जो शव मिले उनमें सरफराज (35) हबीब की मां (55) के अलावा एक 30 साल की युवती का शव है। जिसकी शिनाख्त नहीं हुई। माना जा रहा है कि वह किरायेदार होगी।