स्पेन में गैंगरेप आरोपी छूटने पर बवाल, कोर्ट ने कहा- नहीं हुआ रेप

स्पेन में कोर्ट के एक फैसले के खिलाफ हजारों लोगों ने सड़क पर विरोध प्रदर्शन शुरु कर दिया है। रिपोर्ट के मुताबिक, दो साल पहले स्पेन के चर्चित बुल फेस्टिवल के दौरान एक 18 साल की युवती के साथ कथित तौर पर 5 लोगों ने गैंगरेप किया। यही नहीं आरोपियों ने इस दौरान युवती का वीडियो भी बनाया और उसे व्हाट्सएप पर शेयर कर दिया।

5 Men Sexually Assaulted Woman Spanish Court Says Its Not Rape :

क्या है मामला-

दरअसल, कोर्ट ने इन्हें गैंगरेप का आरोपी न मानकर यौन उत्पीड़न का दोषी माना है। सभी 5 लोगों को 9 साल की सज़ा सुनाई गई है। उल्लेखनीय है कि अभी भी स्पेन में यौन अपराध या उत्पीड़न को अधिक गंभीर अपराध नहीं माना जाता है।

एक लड़की ने अपनी शिकायत में पुलिस को बताया था कि घटना के दिन उसे कार में लिफ्ट ऑफर दिया गया था। कार में 5 लड़के बैठे थे, जिनकी उम्र करीब 20 साल रही होगी। लेकिन, कार में बैठाने के बजाय उन्होंने लड़की को दीवार की तरफ धक्का दे दिया। चुप रहने की धमकी देकर उसके साथ गैंगरेप किया। उन लोगों ने इसका वीडियो भी बना लिया। भागने से पहले वो लड़की का फोन भी ले गए। वॉशिगटन पोस्ट के मुताबिक ये घटना साल 2016 में ‘बुल फेस्टिवल’ के दौरान हुई थी। पुलिस को शिकायत दी गई थी कि 5 लड़कों ने लड़की के साथ गैंगरेप किया और वीडियो बनाकर व्हाट्सऐप ग्रुप पर शेयर कर दिया।

आरोपी के वकील ने बताया-

आरोपियों के वकील ने इस बात को कोर्ट में इस तरह पेश किया कि इस मामले में लड़की की सहमति थी। आरोपियों की ओर से कोर्ट में लड़की की कुछ तस्वीरें भी पेश की गई थी। बता दें कि वारदात के कुछ दिनों बाद एक प्राइवेट इन्वेस्टिगेटर ने लड़की का पीछा किया और उसकी हंसते और दोस्तों के साथ बात करते हुए फोटोज क्लिक कर ली थी।

जानें कोर्ट का फैसला-

लेकिन, 26 अप्रैल को हुई आखिरी सुनवाई में कोर्ट ने इसे गैंगरेप की घटना मानने से इनकार कर दिया। कोर्ट ने इसे आपसी सहमति से किए गए ग्रुप सेक्स के दौरान हुआ यौन उत्पीड़न मानते हुए उन्हें बरी कर दिया। कोर्ट ने सभी 5 लडकों को गैंगरेप के आरोप से बरी कर दिया।

कोर्ट ने इन्हें सिर्फ यौन उत्पीड़न का दोषी माना और सभी को 9 साल की सजा सुनाई। इसके अलावा ये अभियुक्त लड़की को 8-8 लाख रुपये भी देंगे। कोर्ट के फैसले से स्पेन के लोगों में आक्रोश है। पीड़ित लड़की को इंसाफ दिलाने को लेकर मैड्रिड, बार्सिलोना समेत कई शहरों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं।

स्पेन में कोर्ट के एक फैसले के खिलाफ हजारों लोगों ने सड़क पर विरोध प्रदर्शन शुरु कर दिया है। रिपोर्ट के मुताबिक, दो साल पहले स्पेन के चर्चित बुल फेस्टिवल के दौरान एक 18 साल की युवती के साथ कथित तौर पर 5 लोगों ने गैंगरेप किया। यही नहीं आरोपियों ने इस दौरान युवती का वीडियो भी बनाया और उसे व्हाट्सएप पर शेयर कर दिया।

क्या है मामला-

दरअसल, कोर्ट ने इन्हें गैंगरेप का आरोपी न मानकर यौन उत्पीड़न का दोषी माना है। सभी 5 लोगों को 9 साल की सज़ा सुनाई गई है। उल्लेखनीय है कि अभी भी स्पेन में यौन अपराध या उत्पीड़न को अधिक गंभीर अपराध नहीं माना जाता है। एक लड़की ने अपनी शिकायत में पुलिस को बताया था कि घटना के दिन उसे कार में लिफ्ट ऑफर दिया गया था। कार में 5 लड़के बैठे थे, जिनकी उम्र करीब 20 साल रही होगी। लेकिन, कार में बैठाने के बजाय उन्होंने लड़की को दीवार की तरफ धक्का दे दिया। चुप रहने की धमकी देकर उसके साथ गैंगरेप किया। उन लोगों ने इसका वीडियो भी बना लिया। भागने से पहले वो लड़की का फोन भी ले गए। वॉशिगटन पोस्ट के मुताबिक ये घटना साल 2016 में 'बुल फेस्टिवल' के दौरान हुई थी। पुलिस को शिकायत दी गई थी कि 5 लड़कों ने लड़की के साथ गैंगरेप किया और वीडियो बनाकर व्हाट्सऐप ग्रुप पर शेयर कर दिया।

आरोपी के वकील ने बताया-

आरोपियों के वकील ने इस बात को कोर्ट में इस तरह पेश किया कि इस मामले में लड़की की सहमति थी। आरोपियों की ओर से कोर्ट में लड़की की कुछ तस्वीरें भी पेश की गई थी। बता दें कि वारदात के कुछ दिनों बाद एक प्राइवेट इन्वेस्टिगेटर ने लड़की का पीछा किया और उसकी हंसते और दोस्तों के साथ बात करते हुए फोटोज क्लिक कर ली थी।

जानें कोर्ट का फैसला-

लेकिन, 26 अप्रैल को हुई आखिरी सुनवाई में कोर्ट ने इसे गैंगरेप की घटना मानने से इनकार कर दिया। कोर्ट ने इसे आपसी सहमति से किए गए ग्रुप सेक्स के दौरान हुआ यौन उत्पीड़न मानते हुए उन्हें बरी कर दिया। कोर्ट ने सभी 5 लडकों को गैंगरेप के आरोप से बरी कर दिया। कोर्ट ने इन्हें सिर्फ यौन उत्पीड़न का दोषी माना और सभी को 9 साल की सजा सुनाई। इसके अलावा ये अभियुक्त लड़की को 8-8 लाख रुपये भी देंगे। कोर्ट के फैसले से स्पेन के लोगों में आक्रोश है। पीड़ित लड़की को इंसाफ दिलाने को लेकर मैड्रिड, बार्सिलोना समेत कई शहरों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं।