1. हिन्दी समाचार
  2. पीरियड से जुडी 5 ऐसी सच्चाई जो उड़ा देगी आपके होश, सोचने पर होंगे मजबूर

पीरियड से जुडी 5 ऐसी सच्चाई जो उड़ा देगी आपके होश, सोचने पर होंगे मजबूर

5 Such Truths Related To The Period That Will Blow Away Your Senses You Will Be Forced To Think

By आराधना शर्मा 
Updated Date

लखनऊ: पीरियड महिलाओं के जीवन का सबसे चरण होता है जिससे हर एक महिला को गुजरना पड़ता है। ये दुनिया की हर महिला को होता है। लेकिन इससे जुड़ी जो जरूरी सच्चाई है उसके बारे में शायद ही किसी को महिला को मालूम होगा।

पढ़ें :- इस काम के लिए आज है आखिरी दिन, समय रहते कर लें नहीं पछतायेंगे

क्या आपको सच में नहीं पता इन जरूरी सच्चाईयों के बारे में… तो कोई नहीं आज जान लीजिए। आज हम आपको इससे जुड़ी 10 महत्वपूर्ण बातों के बारे में बताते हैं, जिन्हें जानकर आप सोचेंगे कि क्या सच में ऐसा होता है?

पीरियड से जुडी सच्चाईयां

पीरियड के लिए जरूरी है बॉडी फैट

मासिक धर्म के लिए बॉडी फैट(वसा) होना जरूरी है। अगर आपके शरीर में उपस्थित वसा 8-12 प्रतिशत कम हो जाता है तो आपके पीरियड अचानक से बंद हो जाने की संभावनाएं बढ़ जाएंगी। महिलाओं में उपस्थित वसा कोशिकाएं एस्ट्रोजिन लेवल से संबंधित हैं, इसलिए यह प्रजनन और मासिक धर्म दोनों के लिए जरूरी है।

समकालिक पीरियड का वैज्ञानिक प्रमाण नहीं

हम हमेशा बात करते हैं कि हमारा पीरियड हमारे आस-पास की महिलाओं के साथ ताल-मेल बैठा के आता है, पर ऐसा नहीं है। समकालिक पीरियड अबतक वैज्ञानिक तौर पर प्रमाणित नहीं है।

पढ़ें :- लाइव संसद सत्र के दौरान सांसद ने प्रेमिका के प्राइवेट पार्ट पर किया Kiss, पार्टी ने लिया इस्तीफा

ठंड में पीरियड का प्रभाव

ठंड के महीनों में पीरियड के प्रभाव और ज्यादा बढ़ जाते हैं और ज्यादा कष्टप्रद हो जाते हैं। जैसे दर्द का बढ़ना, रक्त प्रवाह का बढ़ना और यहां तक कि गर्मी की तुलना में पीरियड की अवधि यानि कि दिन भी बढ़ जाते हैं।

आयरन की कमी की वजह होता है पीरियड

पीरियड की वजह से आपके शरीर में आयरन की कमी भी हो सकती है। अगर प्रवाह ज्यादा है तो आपको यह परेशानी होती है, जिसकी वजन से आप थकावट महसूस करती हैं।

इसलिए निकलता है गाढ़ा रक्त

पढ़ें :- देश में गांवों से ज्यादा शहरी इलाकों में कोरोना संक्रमण अधिक: सर्वे

मासिक धर्म में सारा आपके रक्त का ही प्रवाह नहीं होता, रक्त के साथ आपके गर्भाशय परत भी निकलता है। तभी सिर्फ रक्त की तुलना में यह ज्यादा गाढ़ा होता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...