लड़कों को जरूर देखनी चाहिए ये 5 फिल्में लेकिन छुप-छुप कर

cvr

गर्लफ्रेंड के साथ ‘हाफ गर्लफ्रेंड’ टाइप। मगर इन दो टाइप के अलावा भी कई ऐसी फिल्में होती हैं, जो हमें पसंद आती हैं। आज उसी टाइप की फिल्मों के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं।आइए सबसे पहले बात उन्हीं चुनिंदा फिल्मों की।

गैंग्स ऑफ वासेपुर

{ यह भी पढ़ें:- शाहरुख-सलमान जल्द ही कर सकते हैं स्क्रीन शेयर, इस निर्देशक ने किया खुलासा }

अनुराग कश्यप की इस फिल्म में गोलियां और गालियां जी खोलकर बरसाई गई हैं। मगर इस बदले की कहानी को जिस वास्तविक तरीके से फिल्माया गया है उसका कोई जवाब नहीं है। यही कारण है कि आप इसे एक बार नहीं बल्कि बार-बार देखना चाहते हैं।

हंटर

{ यह भी पढ़ें:- विक्रम भट्ट की ये फिल्म जरूर डरा देगी आपको, जारी हुआ ट्रेलर }

फिल्म ‘हंटर’ का हीरो मंदार सेक्स की तुलना पोटी करने से करता है। उसका मानना है कि सेक्स करना पोटी करने की तरह इंसान की बेसिक नीड होती है। अब आप समझ ही गए होंगे कि ये फिल्म लड़कों को अकेले में क्यों देखनी चाहिए? इस फिल्म का स्ट्रॉन्ग कंटेंट इस फिल्म की सबसे बड़ी खासियत है

मातृभूमि

2003 में बनी इस फिल्म में दिखाया गया है कि, ‘बेटी बचाना कितना जरूरी है।’ इस फिल्म में एक गाँव दिखाया गया है, जिसमें लड़कियों की कमी हो जाने की वजह से 5 भाइयों की शादी एक लड़की से कर दी जाती है। उसका शोषण लगभग पूरा गाँव करता है। इस फिल्म में भी बोल्ड सीन्स और गालियों की भरमार है।

{ यह भी पढ़ें:- रिलीज़ से पहले ही 'Julie 2' का इंटिमेट सीन हुआ लीक, इंटरनेट पर मचा धमाल }

रक्त चरित्र

‘रक्त चरित्र’ राम गोपाल वर्मा की बेहतरीन फिल्मों में से एक है। ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ की तरह ये फिल्म भी बदले की कहानी है। ये भी दो पार्ट्स में बनाई गई है। इसमें भी गोलियां, गालियां और खून की भरमार है। अगर आपको ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ पसंद आई है तो इस फिल्म को मिस न करें।

अनफ्रीडम

इस फिल्म में होमोसेक्सुअलिटी और आतंकवाद जैसे मुद्दे उठाए गए हैं। ये अपने बोल्ड कंटेंट के चलते भारत में बैन कर दी गई थी। अगर आप अलग सब्जेक्ट्स पर बनी बोल्ड फिल्में देखने के शौकीन हैं तो ये फिल्म आपके लिए है। बस इसे देखते समय इस बात का खयाल रखें कि इसे अकेले में ही देखें।

गर्लफ्रेंड के साथ 'हाफ गर्लफ्रेंड' टाइप। मगर इन दो टाइप के अलावा भी कई ऐसी फिल्में होती हैं, जो हमें पसंद आती हैं। आज उसी टाइप की फिल्मों के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं।आइए सबसे पहले बात उन्हीं चुनिंदा फिल्मों की। गैंग्स ऑफ वासेपुर अनुराग कश्यप की इस फिल्म में गोलियां और गालियां जी खोलकर बरसाई गई हैं। मगर इस बदले की कहानी को जिस वास्तविक तरीके से फिल्माया गया है उसका कोई जवाब नहीं है। यही…
Loading...