देश के 50 परिवारों के पास है पूरा कालाधन: राहुल गांधी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के जौनपुर में कांग्रेस की आक्रोश रैली का नेतृत्व करने पहुंचे कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर जमकर भड़ास निकाली। राहुल ने कहां,”हिदुस्तान के 1 फीसदी लोगों के पास कालाधन है लेकिन मोदी ने 99 फीसदी लोगों का पैसा छिना है। यही 1% अमिर लोग मोदी को मार्केटिंग का पैसा देते है।” राहुल ने कहा मोदी के पास स्वीस बैंक के खातों में जमा कालाधन वालो के नाम की लिस्ट है उन्हें वे नाम संसद में खोलने चहिये। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान का 60 फीसदी पैसा सिर्फ 1 फीसदी अमीरों के पास है।




राहुल ने कहा कि 50 परिवार ऐसे है, जिनका स्वीस बैंक में लाखों करोड़ रूपये का कालाधन जमा है। पीएम मोदी को स्विट्जरलैंड सरकार ने कालाधन वालों के नाम की लिस्ट दे दी है, लेकिन फिर भी वह संसद में उन लोगों के नाम का खुलासा नहीं कर रहे है। मोदी ने अब तक उन 50 परिवारों पर बैंक का 10,10,000 करोड़ का कर्ज माफ किया है, लेकिन जब किसान लोंन नहीं चूका पाता है तो उसके खिलाफ कारवाई की जाती है।




राहुल ने कहा, 50 परिवारों के ऊपर बैंक का 8 लाख करोड़ का कर्ज है मोदी ने उनके पैसे को कवर करने के लिए 99 फीसदी लोगों का पैसा बैंक में डाला है, यही है कालेधन पर सर्जिकल स्ट्राइक। विजय माल्या का जिक्र करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि जो माल्या लंदन में बैठा है पीएम मोदी ने उसका भी 1200 करोड़ रूपये का कर्ज भी माफ किया है।

मजदूरों को बर्बाद कर दिया मोदी सरकार ने

पीएम मोदी के कैशलेस कदम की आलोचना करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि देश का मजदूर कैश पर जीता है। उसे पैसे patym से नहीं कैश में मिलते है। अब अब परिस्थितियां ऐसीं हैं कि ना देने वाले के पास पैसे है ना ही मजदूर को पैसे मिल पा रहे है। नोटबंदी लागू कर मोदी ने सारे मजदूरों को बर्बाद कर दिया है। उदाहरण देते हुए राहुल ने कहा कि बेंग्लूरू में एक महिला जिसका नाम लक्ष्मी है, जिसकी फूलों की दुकान थी, लोग पैसे से उसके फूल खरीदते थे। उन पैसों से वह अपना परिवार चलाती थी। कैशलेश इकॉनामी के बाद वह महिला बेंग्लूरू की सडको पर भीख मांग रही है, क्योंकि लोगों के पास फूल खरीदने के पैसे नहीं है। जो महिलायें घर में पैसे बचाकर रखती थी नोटबंदी ने उन सब को चोर बना दिया।

मोदी ने नही किया कोई वादा पूरा

राहुल गांधी ने कहा कि 2014 के लोकसभा चुनावों में पीएम बनने से पहले नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि केंद्र में हमारी सरकार होगी तो हम हिन्दुस्तान के हर व्यक्ति को 15 लाख रूपये देंगे, अब तक किसी को 15 लाख रूपये नहीं मिले। मोदी ने हर साल 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहीं थी। रोजगार देना तो दूर, जिन लोगों के पास रोजगार था उनके रोजगार भी छिनते दिख रहे हैं।




राहुल गांधी की जुबानी नोटबंदी की सच्चाई

नोटबंदी पर पीएम के भाषण का जिक्र करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि पीएम पहले नकली नोट पर शिकंजा कसने की बात की, फिर उनकी सरकार के एक मंत्री ने राज्यसभा में कहां भारत में नकली नोट 100 में से सिर्फ 2 पैसे ही है। फिर मोदी ने नकली नोटों पर बोलना बंद कर दिया। फिर नोटबंदी से आतंकवाद खत्म करने की बात कहीं, लेकिन यह भी फेल हो गया। हाल ही में एक आतंकवादी मारा गया है जिसकी जेब में से 2000 के गुलाबी नोट मिले है। जिसके बाद मोदी ने आतंकवाद पर भी बोलना बंद कर दिया। राहुल ने कहां फिर मोदी ने कैशलेश इकॉनामी पर जोर दिया, तो आपको जानना चाहिए कि कैशलेश इकॉनामी है क्या?, “अगर आप 100 रूपये का सामान कैशलेश खरीदेंगे तो उसमें से 5 रुपया सीधा उन 50 परिवारों के पास चला जाएगा। जिसकी आपको जानकारी भी नहीं होगी। यही है कैशलेश व्यवस्था” मोदी ने नोटबंदी पर सर्जिकल स्ट्राइक नहीं बल्कि हिन्दुस्तान के लोगों पर फायर बॉम्बिंग की है।




भाजपा के लोगो को पहले से थी नोटबंदी की जानकारी

राहुल ने कहां भाजपा के लोगों को नोटबंदी की जानकारी पहले से थी। नोटबंदी के पहले बंगाल के एक बीजेपी संगठन ने करोड़ो रूपये बैंक में जमा किए है। भाजपा के नेताओं ने नोटबंदी से पहले करोड़ों रूपये की ज़मीन खरीदी है। कालाधन सबसे ज्यादा रियल इस्टेट में है और इसके अलावा सोने चांदी और हीरो में है जिसका सबसे ज्यादा उपयोग भाजपा के लोगों ने किया है।