कासगंज हिंसा: लगातार तीसरे दिन तनाव बरकरार, इंटरनेट बंद, 50 उपद्रवी गिरफ्तार

कासगंज हिंसा: लगातार तीसरे दिन तनाव बरकरार, इंटरनेट बंद, 50 उपद्रवी गिरफ्तार
कासगंज हिंसा: लगातार तीसरे दिन तनाव बरकरार, इंटरनेट बंद, 50 उपद्रवी गिरफ्तार

कासगंज। उत्तर प्रदेश के कासगंज हिंसा में लगातार तीसरे दिन भी बवाल जारी है। तनाव को देखते हुए आज रात 10 बजे तक इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं। प्रशासन ने ऐतिहातन जिले की सभी सीमाओं को सील कर दिया है। इस पूरे मामले में पुलिस ने अभी तक 50 लोगों को गिरफ्तार किया है। रविवार की सुबह अराजक तत्वों ने एक दुकान में आग लगा दी। पिछले दो दिनों से कासगंज में कर्फ्यू लागू है, पीएसी और पुलिस के जवान तैनात हैं, लेकिन हिंसा और आगजनी की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं।

बता दें कि शुक्रवार को तिरंगा यात्रा के दौरान धार्मिक स्थल में आग लगने की अफवाह फैली। इसके बाद दो समुदायों के लोग आमने-सामने आ गए। दोनों पक्षों के बीच नारेबाजी के दौरान ही झड़प हो गई। इस दौरान हुई फायरिंग में गोली लगने से एक व्यक्ति की देर रात मौत हो गई। इस बीच, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी इस घटना का संज्ञान लेते हुए दोनो समुदायों से शांति बनाए रखने की अपील की है। इसके साथ ही उन्होंने इस घटना में शामिल दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किए जाने का निर्देश दिया है।

{ यह भी पढ़ें:- साड़ के हमले से घायल युवक की मौत, पसरा मातम }

पुलिस के मुताबिक, तिरंगा यात्रा के दौरान ही मोहल्ला खेड़िया के एक धार्मिक स्थल से अचानक धुंआ उठने लगा, जिसके बाद अफवाह फैल गई कि किन्हीं शरारती तत्वों ने ये आग लगाई है। आग की सूचना मिलने पर प्रशासन और पुलिस की टीम मौके पर पहुंच गई। बाद में आग पर काबू पा लिया गया। हालांकि, अभी तक यह स्पष्ट नहीं हुआ कि आग किस वजह से लगी थी।

पुलिस ने धार्मिक स्थल के ऊपरी हिस्से में लगी आग पर लोगों की मदद से पानी डलवाया और आग पर काबू पा लिया। इस दौरान वरिष्ठ अधिकारी पुलिस फोर्स के साथ इलाके में भ्रमण कर लोगों से शांति बनाए रखने के लिए अपील करते रहे। कासगंज शहर में उपद्रव के बाद धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस माहौल खराब करने वालों के खिलाफ धरपकड़ कर कोतवाली में बंद करने का अभियान भी चला रही है। कई लोगों को पकड़ कर बंद किया गया है।

{ यह भी पढ़ें:- तारकोल से भरा टैंकर पलटा, तीन लोगों की जलकर मौत }

DM बता रहे साजिश-

मौके का जायजा लेने पहुंचे एटा के जिलाधिकारी आरपी सिंह ने बताया कि अब तक हिंसा फैलाने के आरोप में नामजद 9 लोगों सहित अब तक कुल 50 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। आरपी सिंह ने कहा कि इन सबके पीछे कुछ लोग हैं, हमने उनमें से कुछ की पहचान कर ली है। उन्होंने बताया कि रविवार को हुई हिंसा की किसी घटना में एक भी व्यक्ति घायल नहीं हुआ है। उनका कहना है कि इस सबके पीछे साजिश हो सकती है, हालांकि मुझे इस बारे में नहीं मालूम है।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी के उप चुनावों के लिए प्रत्याशी घोषित करने में कांग्रेस ने मारी बाजी }

Loading...