अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू कश्मीर के 575 युवा भारतीय सेना में हुए शामिल

indian

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर (Jammu & Kashmir) में हथियार उठा रहे लोगों को वहां के नौजवानों ने करारा जवाब दिया है. 575 परिवारों के लिए शनिवार को खुशी का दिन रहा, यहां 575 नौजवान जम्मू और कश्मीर लाइट इन्फैंट्री (Jammu and Kashmir Light Infantry ) में शामिल हुए.

575 Youths Of Jammu Kashmir Joinms Indian Army Says We Are Proud :

शनिवार को पीओपी के दौरान इन सभी जवानों के परिजन भी मौजूद रहे। श्रीनगर में रहने वाले वसीम अहमद मीर ने जम्मू-कश्मीर लाइट इन्फैंट्री (JKLIR) में शामिल होने के बाद कहा, ‘मैं बहुत खुश हूं, मेरे माता-पिता गर्व महसूस कर रहे हैं। हमें शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से सेना में बहुत कुछ सीखने को मिलता है। मेरे पिता भी सेना में थे, उनकी वर्दी ने मुझे सुरक्षाबल में शामिल होने के लिए प्रेरित किया।’

एक अन्य जवान ने कहा कि हमें बड़ी खुशी हुई कि हमने अपनी ट्रेनिंग खत्म कर अब अपनी पलटन में जाएंगे और पूरी ईमानदारी से देश की सेवा करेंगे।

बता दें कि केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी कर दिया है और इसे दो भागों में भी विभाजित कर लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बना दिया है। विपक्षी दलों ने इसका विरोध किया है, हालांकि घाटी में अभी कर्फ्यू लगा हुआ है।

वहीं केंद्र सरकार के इस फैसले के बाद पाकिस्तान बौखलाहट में है। वो दुनियाभर में भारत के इस फैसले का विरोध कर रहा है। ये अलग बात है कि उसे कहीं भी सफलता नहीं मिल रही है और वह हर कूटनीतिक मोर्चे पर असफल साबित हो रहा है।

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर (Jammu & Kashmir) में हथियार उठा रहे लोगों को वहां के नौजवानों ने करारा जवाब दिया है. 575 परिवारों के लिए शनिवार को खुशी का दिन रहा, यहां 575 नौजवान जम्मू और कश्मीर लाइट इन्फैंट्री (Jammu and Kashmir Light Infantry ) में शामिल हुए. शनिवार को पीओपी के दौरान इन सभी जवानों के परिजन भी मौजूद रहे। श्रीनगर में रहने वाले वसीम अहमद मीर ने जम्मू-कश्मीर लाइट इन्फैंट्री (JKLIR) में शामिल होने के बाद कहा, 'मैं बहुत खुश हूं, मेरे माता-पिता गर्व महसूस कर रहे हैं। हमें शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से सेना में बहुत कुछ सीखने को मिलता है। मेरे पिता भी सेना में थे, उनकी वर्दी ने मुझे सुरक्षाबल में शामिल होने के लिए प्रेरित किया।' एक अन्य जवान ने कहा कि हमें बड़ी खुशी हुई कि हमने अपनी ट्रेनिंग खत्म कर अब अपनी पलटन में जाएंगे और पूरी ईमानदारी से देश की सेवा करेंगे। बता दें कि केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी कर दिया है और इसे दो भागों में भी विभाजित कर लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बना दिया है। विपक्षी दलों ने इसका विरोध किया है, हालांकि घाटी में अभी कर्फ्यू लगा हुआ है। वहीं केंद्र सरकार के इस फैसले के बाद पाकिस्तान बौखलाहट में है। वो दुनियाभर में भारत के इस फैसले का विरोध कर रहा है। ये अलग बात है कि उसे कहीं भी सफलता नहीं मिल रही है और वह हर कूटनीतिक मोर्चे पर असफल साबित हो रहा है।