एटीएम की लाइन में लगे ससुर की भगदड़ में मौंत, बहू की हानी थी डिलीवरी

65 Year Old Man Died In Atm Queue Stampede

लखनऊ। नोटबंदी के 14 दिन बीत चुके हैं। इसके बावजूद कहीं न कहीं से एक ऐसी खबर आती है, जो बयां कर देतीं हैं कि केन्द्र सरकार के इस फैसले से विशेष परिस्थितियों में फंसे आम आदमी का धैर्य आखिर क्यों जवाब देता नजर आ रहा है। मंगलवार को भी ऐसी ही एक घटना सामने आई है यूपी के देवरिया में। जहां अपनी गर्भवती पुत्र वधु को डिलीवरी के लिए अस्पताल में भर्ती करवाने के बाद नगदी के लिए एटीएम की लाइन में लगे 65 वर्षीय बुजुर्ग की बेकाबू भीड़ में कुचल जाने से मौत हो गई।




मृतक की पहचान 65 वर्षीय रामनाथ कुशवाहा के रूप में हुई है। रामनाथ देवरिया के गुलरिहा गांव के निवासी बताए जा रहे हैं। देवरिया पुलिस का कहना है कि रामनाथ एसबीआई बैंक के एटीएम के बाहर लगी लाइन में खड़े थे। इसी बीच लाइन तोड़ने को लेकर कुछ लोगों में हुई कहासुनी भगदड़ में तब्दील हो गई। जिसकी चपेट में आने से रामनाथ जमीन पर जा गिरे और बेकाबू लोगों ने उन्हें कुचल दिया।

बकौल पुलिस रामनाथ को घायल अवस्था में इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाकर उनके परिजनों को सूचित किया गया था, लेकिन कुछ देर इलाज चलने के बाद ही रामनाथ ने दम तोड़ दिया।




वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों का कहना है कि एटीएम के पास सिपाहियों की तैनाती की गई थी। लेकिन भीड़ ज्यादा होने की वजह से एकाए भगदड़ मच गई। जिसकी सूचना मिलने पर सहायता के लिए अतिरिक्त बल मौके पर भेजा गया, लेकिन हादसा तब तक हो चुका था।

लखनऊ। नोटबंदी के 14 दिन बीत चुके हैं। इसके बावजूद कहीं न कहीं से एक ऐसी खबर आती है, जो बयां कर देतीं हैं कि केन्द्र सरकार के इस फैसले से विशेष परिस्थितियों में फंसे आम आदमी का धैर्य आखिर क्यों जवाब देता नजर आ रहा है। मंगलवार को भी ऐसी ही एक घटना सामने आई है यूपी के देवरिया में। जहां अपनी गर्भवती पुत्र वधु को डिलीवरी के लिए अस्पताल में भर्ती करवाने के बाद नगदी के लिए एटीएम…