69 प्रतिशत पाकिस्तानियों को नहीं पता क्या है इंटरनेट, सर्वे में आया सामने

pakistani net users
69 प्रतिशत पाकिस्तानियों को नहीं पता क्या है इंटरनेट, सर्वे में आया सामने

नई दिल्ली। आज के समय में जब पूरी दुनिया इंटरनेट के भरोसे हैं, वहीं एक एक देश ऐसा भी है, जहां के ज्यादातर लोगों को यहीं नही पता कि इंटरनेट किस बला का नाम है। बता दें कि पाकिस्तान में हाल ही में एक सर्वे किया गया, जिसमें सामने आया कि यहां के 15 से 65 वर्ष की उम्र के 70 फीसदी लोग नहीं जानते कि आखिर इंटरनेट होता क्या है। ये सर्वे इन्फार्मेशन कम्यूनिकेशन टेक्नॉलजी (आईसीटी) ने किया है। यहां केवल 30 प्रतिशत लोग ऐसे हैं जिन्हें इंटरनेट के बारे में जानकारी है। बता दें कि इस सर्वें में दो हजार परिवार को शामिल किया गया था।

69 Percent Pakistanis Dont Know What Is Internet According To Survay :

सर्वेकर्ताओं का दावा है कि सैम्पलिंग पद्धति को 15 से 65 आयु वर्ग की 98 प्रतिशत आबादी का प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करने के लिए डिजाइन किया गया था। 2017 में अक्टूबर से दिसंबर के बीच किए गए इस सर्वे से यह जानने में मदद मिली कि कितने यूजर्स आईसीटी सेवाओं का इस्तेमाल करते हैं और कितने लोग इस सुविधा से अंजान है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि बेहतर सिम रजिस्ट्रेशन सिस्टम के बावजूद पाकिस्तान टेलिकम्यूनिकेशन अथॉरिटी (पीटीए) वेबसाइट पर 152 मिलियन ऐक्टिव सेल्युलर सब्सक्राइबर की जानकारी दी गई है। केवल पाकिस्तान ही नहीं, बल्कि कई दूसरे एशियाई देशों में भी इंटरनेट जागरूकता में कमी की बात सामने आई है।

इस सर्वे में सामने आया कि इंटरनेट का इस्तेमाल न करने के पीछे की मुख्य वजह जागरूकता का अभाव है। पुरुषों के मुकाबले पाकिस्तानी महिलाएं इंटरनेट का 43 प्रतिशत कम इस्तेमाल करती हैं। हालांकि, यह भारत में यह अंतर 57 प्रतिशत और बांग्लादेश में 62 प्रतिशत है।

नई दिल्ली। आज के समय में जब पूरी दुनिया इंटरनेट के भरोसे हैं, वहीं एक एक देश ऐसा भी है, जहां के ज्यादातर लोगों को यहीं नही पता कि इंटरनेट किस बला का नाम है। बता दें कि पाकिस्तान में हाल ही में एक सर्वे किया गया, जिसमें सामने आया कि यहां के 15 से 65 वर्ष की उम्र के 70 फीसदी लोग नहीं जानते कि आखिर इंटरनेट होता क्या है। ये सर्वे इन्फार्मेशन कम्यूनिकेशन टेक्नॉलजी (आईसीटी) ने किया है। यहां केवल 30 प्रतिशत लोग ऐसे हैं जिन्हें इंटरनेट के बारे में जानकारी है। बता दें कि इस सर्वें में दो हजार परिवार को शामिल किया गया था।सर्वेकर्ताओं का दावा है कि सैम्पलिंग पद्धति को 15 से 65 आयु वर्ग की 98 प्रतिशत आबादी का प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करने के लिए डिजाइन किया गया था। 2017 में अक्टूबर से दिसंबर के बीच किए गए इस सर्वे से यह जानने में मदद मिली कि कितने यूजर्स आईसीटी सेवाओं का इस्तेमाल करते हैं और कितने लोग इस सुविधा से अंजान है।रिपोर्ट में बताया गया है कि बेहतर सिम रजिस्ट्रेशन सिस्टम के बावजूद पाकिस्तान टेलिकम्यूनिकेशन अथॉरिटी (पीटीए) वेबसाइट पर 152 मिलियन ऐक्टिव सेल्युलर सब्सक्राइबर की जानकारी दी गई है। केवल पाकिस्तान ही नहीं, बल्कि कई दूसरे एशियाई देशों में भी इंटरनेट जागरूकता में कमी की बात सामने आई है।इस सर्वे में सामने आया कि इंटरनेट का इस्तेमाल न करने के पीछे की मुख्य वजह जागरूकता का अभाव है। पुरुषों के मुकाबले पाकिस्तानी महिलाएं इंटरनेट का 43 प्रतिशत कम इस्तेमाल करती हैं। हालांकि, यह भारत में यह अंतर 57 प्रतिशत और बांग्लादेश में 62 प्रतिशत है।