69 हजार शिक्षक भर्ती: मायावती ने की CBI जांच की मांग, प्रियंका ने बताया व्यापम घोटाला

priyanka and mayawati
69 हजार शिक्षक भर्ती: मायावती ने की CBI जांच की मांग, प्रियंका ने बताया व्यापम घोटाला

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के प्राइमरी स्कूलों में 69000 सहायक शिक्षक भर्ती में अथ्यर्थियों का फर्जी ढंग से पास होने का मामला सामने आने के बाद हड़कंप मचा हुआ है. एक तरफ प्रयागराज पुलिस ने मामले में गिरोह का पर्दाफाश करते हुए मास्टरमाइंड समेत कई की गिरफ्तारी की है. वहीं दूसरी तरफ योगी सरकार ने मामले की जांच यूपी एसटीएफ को सौंप दी है. उधर विपक्षी दल भी मामले में हमलावर हैं. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इसे व्यापमं घोटाला करा दिया है, वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने मामले की जांच सीबीआई को सौंपने की मांग की है.

69 Thousand Teachers Recruitment Mayawati Demands Cbi Probe Priyanka Told Vyapam Scam :

मायावती ने ट्वीट किया है, “उत्तर प्रदेश में 69 हजार शिक्षकों की भर्ती में बड़े पैमाने पर गड़गड़ी, धांधली व भ्रष्टाचार आदि के सम्बंध में रोज नए-नए खुलासे व तथ्यों के उजागर होने के कारण अब यह मामला काफी गंभीर हो गया है. जनता काफी आशंकित है. ऐसे में इसकी सी.बी.आई. जांच होनी चाहिए, बी.एस.पी. की यह मांग है.”

उत्तर प्रदेश में 69 हजार शिक्षकों की भर्ती में बड़े पैमाने पर गड़गड़ी, धांधली व भ्रष्टाचार आदि के सम्बंध में रोज नए-नए खुलासे व तथ्यों के उजागर होने के कारण अब यह मामला काफी गंभीर हो गया है। जनता काफी आशंकित है। ऐसे में इसकी सी.बी.आई. जाँच होनी चाहिए, बी.एस.पी. की यह माँग है।


उधर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया है कि 69000 शिक्षक भर्ती घोटाला उत्तर प्रदेश का का व्यापम घोटाला है. इस मामले में गड़बड़ी के तथ्य सामान्य नहीं हैं. डायरियों में स्टूडेंट्स के नाम, पैसे का लेनदेन, परीक्षा केंद्रों में बड़ी हेरफेर, इन गड़बड़ियों में रैकेट का शामिल होना – ये सब दर्शाता है कि इसके तार काफी जगहों पर जुड़े हैं. मेहनत करने वाले युवाओं के साथ अन्याय नहीं होना चाहिए. सरकार अगर न्याय नहीं दे सकी तो इसका जवाब आंदोलन से दिया जाएगा.


69000 शिक्षक भर्ती घोटाला उप्र का व्यापम घोटाला है। इस मामले में गड़बड़ी के तथ्य सामान्य नहीं हैं। डायरियों में स्टूडेंट्स के नाम, पैसे का लेनदेन, परीक्षा केंद्रों में बड़ी हेरफेर, इन गड़बड़ियों में रैकेट का शामिल होना – ये सब दर्शाता है कि इसके तार काफी जगहों पर जुड़े हैं।

इसके अलावा प्रियंका गांधी ने शिक्षक भर्ती से जुड़े प्रतियोगी छात्र-छात्राओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बातचीत की. यूपी कोंग्रेस मीडिया संयोजक ललन कुमार ने बताया प्रतियोगी छात्र छात्राओं ने महासचिव से तमाम बिंदुओं पर अपना पक्ष साझा करते हुए कहा कि इस भर्ती प्रक्रिया में उनके साथ बहुत अन्याय हुआ है. महासचिव ने उनको भरोसा दिलाते हुए कहा कि हम इस न्याय की लड़ाई में प्रतियोगी छात्र-छात्राओ के साथ खड़े हैं.

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के प्राइमरी स्कूलों में 69000 सहायक शिक्षक भर्ती में अथ्यर्थियों का फर्जी ढंग से पास होने का मामला सामने आने के बाद हड़कंप मचा हुआ है. एक तरफ प्रयागराज पुलिस ने मामले में गिरोह का पर्दाफाश करते हुए मास्टरमाइंड समेत कई की गिरफ्तारी की है. वहीं दूसरी तरफ योगी सरकार ने मामले की जांच यूपी एसटीएफ को सौंप दी है. उधर विपक्षी दल भी मामले में हमलावर हैं. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इसे व्यापमं घोटाला करा दिया है, वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने मामले की जांच सीबीआई को सौंपने की मांग की है. मायावती ने ट्वीट किया है, “उत्तर प्रदेश में 69 हजार शिक्षकों की भर्ती में बड़े पैमाने पर गड़गड़ी, धांधली व भ्रष्टाचार आदि के सम्बंध में रोज नए-नए खुलासे व तथ्यों के उजागर होने के कारण अब यह मामला काफी गंभीर हो गया है. जनता काफी आशंकित है. ऐसे में इसकी सी.बी.आई. जांच होनी चाहिए, बी.एस.पी. की यह मांग है.” उत्तर प्रदेश में 69 हजार शिक्षकों की भर्ती में बड़े पैमाने पर गड़गड़ी, धांधली व भ्रष्टाचार आदि के सम्बंध में रोज नए-नए खुलासे व तथ्यों के उजागर होने के कारण अब यह मामला काफी गंभीर हो गया है। जनता काफी आशंकित है। ऐसे में इसकी सी.बी.आई. जाँच होनी चाहिए, बी.एस.पी. की यह माँग है। उधर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया है कि 69000 शिक्षक भर्ती घोटाला उत्तर प्रदेश का का व्यापम घोटाला है. इस मामले में गड़बड़ी के तथ्य सामान्य नहीं हैं. डायरियों में स्टूडेंट्स के नाम, पैसे का लेनदेन, परीक्षा केंद्रों में बड़ी हेरफेर, इन गड़बड़ियों में रैकेट का शामिल होना - ये सब दर्शाता है कि इसके तार काफी जगहों पर जुड़े हैं. मेहनत करने वाले युवाओं के साथ अन्याय नहीं होना चाहिए. सरकार अगर न्याय नहीं दे सकी तो इसका जवाब आंदोलन से दिया जाएगा. 69000 शिक्षक भर्ती घोटाला उप्र का व्यापम घोटाला है। इस मामले में गड़बड़ी के तथ्य सामान्य नहीं हैं। डायरियों में स्टूडेंट्स के नाम, पैसे का लेनदेन, परीक्षा केंद्रों में बड़ी हेरफेर, इन गड़बड़ियों में रैकेट का शामिल होना - ये सब दर्शाता है कि इसके तार काफी जगहों पर जुड़े हैं। इसके अलावा प्रियंका गांधी ने शिक्षक भर्ती से जुड़े प्रतियोगी छात्र-छात्राओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बातचीत की. यूपी कोंग्रेस मीडिया संयोजक ललन कुमार ने बताया प्रतियोगी छात्र छात्राओं ने महासचिव से तमाम बिंदुओं पर अपना पक्ष साझा करते हुए कहा कि इस भर्ती प्रक्रिया में उनके साथ बहुत अन्याय हुआ है. महासचिव ने उनको भरोसा दिलाते हुए कहा कि हम इस न्याय की लड़ाई में प्रतियोगी छात्र-छात्राओ के साथ खड़े हैं.