केरल: 70 वर्षीय पादरी के खिलाफ बच्चियों का उत्पीड़न करने का केस दर्ज

girl
केरल: 70 वर्षीय पादरी के खिलाफ बच्चियों का उत्पीड़न करने का केस दर्ज

केरल। केरल में एर्नाकुलम जिले के चेंदामंगलम में पिछले महीने एक पादरी ने अपने कार्यालय में आई तीन नाबालिग लड़कियों का कथित तौर पर उत्पीड़न किया। पुलिस ने शुक्रवार को बताया कि यह घटना पिछले महीने की है, जह एर्नाकुलम के चेंदामंगलम में जब तीनों बच्चियां पादरी के चर्च स्थित दफ्तर में उनका आशीर्वाद लेने पहुंची थीं। पुलिस के मुताबित चेंदामंगलम के एक सीरियन कैथोलिक चर्च का 70 वर्षीय पादरी मामला दर्ज होने के बाद से फरार है।

70 Year Old Catholic Priest In Kerala Accused Of Molesting Minors :

वेदाक्केकारा पुलिस थाना के एक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि पादरी पर पोक्सो अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक यह घटना एक महीने पहले की है जब नौ वर्षीय बच्चियां चर्च में प्रार्थना के बाद आशीर्वाद लेने पादरी के कार्यालय गई थी। चर्च के सूत्र ने बताया कि पादरी को निलंबित कर दिया गया है और उनसे पुलिस जांच में सहयोग करने को कहा है।

इससे पहले जालंधर के पूर्व बिशप फ्रैंको मुलक्कल पर साल 2014 से 2016 के बीच एक नन का यौन शोषण करने के आरोप लगा था। 21 सितंबर 2018 को दुष्कर्म के आरोप में उन्हें गिरफ्तार किया गया था हालांकि बाद में उन्‍हें जमानत भी मिल गई थी। केरल पुलिस ने 1,400 पन्नों का आरोपपत्र अदालत में दाखिल किया था। इसमें 83 गवाहों के नाम शामिल हैं। इन गवाहों में साइरो-मालाबार कैथोलिक चर्च के कार्डिनल, मार जॉर्ज एलेनचेरी, तीन बिशप, 11 पादरी और कई नन शामिल हैं।

केरल। केरल में एर्नाकुलम जिले के चेंदामंगलम में पिछले महीने एक पादरी ने अपने कार्यालय में आई तीन नाबालिग लड़कियों का कथित तौर पर उत्पीड़न किया। पुलिस ने शुक्रवार को बताया कि यह घटना पिछले महीने की है, जह एर्नाकुलम के चेंदामंगलम में जब तीनों बच्चियां पादरी के चर्च स्थित दफ्तर में उनका आशीर्वाद लेने पहुंची थीं। पुलिस के मुताबित चेंदामंगलम के एक सीरियन कैथोलिक चर्च का 70 वर्षीय पादरी मामला दर्ज होने के बाद से फरार है। वेदाक्केकारा पुलिस थाना के एक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि पादरी पर पोक्सो अधिनियम की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक यह घटना एक महीने पहले की है जब नौ वर्षीय बच्चियां चर्च में प्रार्थना के बाद आशीर्वाद लेने पादरी के कार्यालय गई थी। चर्च के सूत्र ने बताया कि पादरी को निलंबित कर दिया गया है और उनसे पुलिस जांच में सहयोग करने को कहा है। इससे पहले जालंधर के पूर्व बिशप फ्रैंको मुलक्कल पर साल 2014 से 2016 के बीच एक नन का यौन शोषण करने के आरोप लगा था। 21 सितंबर 2018 को दुष्कर्म के आरोप में उन्हें गिरफ्तार किया गया था हालांकि बाद में उन्‍हें जमानत भी मिल गई थी। केरल पुलिस ने 1,400 पन्नों का आरोपपत्र अदालत में दाखिल किया था। इसमें 83 गवाहों के नाम शामिल हैं। इन गवाहों में साइरो-मालाबार कैथोलिक चर्च के कार्डिनल, मार जॉर्ज एलेनचेरी, तीन बिशप, 11 पादरी और कई नन शामिल हैं।