1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. सरकारी स्कूलों के 75 फीसदी शौचालयों में नहीं होती सफाई, कैग की रिपोर्ट में सामने आई कई खामियां

सरकारी स्कूलों के 75 फीसदी शौचालयों में नहीं होती सफाई, कैग की रिपोर्ट में सामने आई कई खामियां

75 Per Cent Toilets In Government Schools Are Not Clean Cag Report Reveals Many Flaws

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘स्वच्छ भारत अभियान’ का पाठ पढ़ा रहे हैं। स्वच्छ भारत अभियान के तहत पीएम मोदी लगातार इसे आगे बढ़ाने की अपील कर रहे हैं। वहीं, इसके विपरित सरकारी स्कूल में गंदगी का ढेर है। 15 राज्यों के 75 फीसदी सरकारी स्कूलों के टायलेट में साफ-सफाई के पर्याप्त इंतजाम नहीं होने की बात नियंत्रक व महालेखा परीक्षक (कैग) ने बुधवार को संसद में पेश की गई ऑडिट रिपोर्ट में कही है।

पढ़ें :- बिहार चुनाव: जेपी नड्डा ने विपक्ष पर बोला हमला, कहा-आरजेडी अराजकता पर विश्वास करती है

इतना ही नहीं केंद्रीय सरकारी कंपनियों (पीएसयू) की तरफ से स्कूलों में बनवाए गए 11 फीसदी टायलेट अपनी जगह से ‘गायब’ मिले हैं यानी इनका निर्माण केवल कागजों में ही कर दिया गया, जबकि 30 फीसदी टॉयलेट संचालित ही नहीं किए जा रहे। बता दें कि, कैग ने दरअसल 15 राज्यों के 2048 स्कूलों के उन 2648 स्कूलों के उन 2695 टॉयलेट का ऑडिट किया है।

ये टॉयलेट 2014 में शिक्षा मंत्रालय की अपील पर चार मंत्रालयों की सरकारी कंपनियों की तरफ से निर्मित कराए गए 1,30,703 टॉयलेट में से एक थे। इन टॉयलेट का निर्माण 2162 करोड़ रुपये की लागत से कराया गया था। रिपोर्ट के मुताबिक, सर्वे के दौरान 2326 स्कूली टॉयलेट में से 1812 बुरी तरह गंदे पाए गए।

दिन में कम से कम एक बार सफाई के मानक के विपरीत इन 1812 में से 715 टॉयलेट बिल्कुल भी साफ नहीं किए जाते, जबकि 1097 टॉयलेट में सप्ताह में दो बार से लेकर महीने में एक बार तक सफाई की जा रही है। रिपोर्ट के मुताबिक, 200 टॉयलेट महज कागजों में ही बना दिए गए, जबकि 86 का आंशिक निर्माण किया गया। ऐसे 83 टॉयलेट मिले, जिनका निर्माण पहले ही किसी अन्य योजना में हो चुका था।

पढ़ें :- करदाताओं के लिए बड़ी खबर: अब इस महीने के अंत तक भर सकते हैं आयकर रिटर्न

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...