क्या मौत की कॉल है 777888999 नंबर से आने वाला फोन, जानिए सच

जो लोग फेसबुक और व्हाट्सऐप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हैं, वो शायद ये जानते होंगे कि हर चीज पर भरोसा नहीं किया जा सकता। फर्जी वायरल मैसेज सोशल मीडिया के लिए कोई नई बात नहीं है। इन दिनों वायरल हो रहे एक नए ताजा मैसेज में कहा जा रहा है कि 777888999 से आने वाली कॉल से आपके फोन में आग लग सकती है और हो सकता है कि आप मर जाएं।

777888999 क्या है?
आपको लग सकता है कि यह मैसेज सच है, लेकिन बता दें कि यह पूरी तरह से काल्पनिक और झूठ है। कई सारे लोगों को लग रहा है कि 777888999 एक नंबर है। कई लोग इस मैसेज को फेसबुक, व्हाट्सऐप और दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर इसलिए साझा कर रहे हैं ताकि लोगों को इस नंबर से आने वाली कॉल को ना उठाने के लिए चेतावनी दे सकें। इससे पहले भी सोशल मीडिया पर इस तरह की फर्जी खबरें मीडिया में आ चुकी हैं।

{ यह भी पढ़ें:- क्या ​एशिया का सबसे करप्ट देश है भारत ..? }

एक मैसेज में लिखा है, ”अर्जेन्ट? कृपया 777888999 मोबाइल नंबर से आने वाली कोई भी कॉल रिसीव ना करें। कॉल उठाने पर आपके मोबाइल में ब्लास्ट हो जाएगा…कृपया अपने दोस्तों के साथ साझा करें।”

एक दूसरे मैसेज के मुताबिक, ”एक महिला कॉल उठाने वाले से बात करेगी और बताएगी कि यह उसकी आखिरी कॉल है। कृपया इस मैसेज को दूसरों को भेजें और नज़रअंदाज़ ना करें। अपने दोस्तों और परिवार के लोगों को भेजें। ”

{ यह भी पढ़ें:- ब्लू व्हेल के चक्रव्यूह में फंसे 19 वर्षीय छात्र ने किया सुसाइड }

777888999 एक फर्जी नंबर क्यों है?
ऐसी बहुत सारी वजहें हैं, जिसकी वजह से यह साफ ज़ाहिर होता है कि यह ‘डेथ’ नंबर फर्जी है। पहली बात तो यह कि, ऐसा कोई कारण नहीं है कि 777888999 से आने वाली कॉल से किसी फोन में ब्लास्ट हो जाए और आप मर जाएं। दूसरी बात कि, यह एक 9 डिजिट का नंबर है, जो भारत में काम ही नहीं करेगा। और अगर यह एक अंतर्राष्ट्रीय नंबर है भी तो, इसके साथ किसी देश का कोड नहीं है। आखिरी बात यह कि, अभी तक इससे जुड़ा किसी तरह का कोई केस सामने नहीं आया है जिसके दस्तावेज हों।

इससे पहले भी कई फर्जी मैसेज सामने आ चुके हैं जो बिना किसी सबूत के ही वायरल हुए हैं। और हमारी पाठकों को सलाह है कि इस तरह के मैसेज को साझा ना करें जिससे किसी तरह की परेशानी पैदा हो।

{ यह भी पढ़ें:- नेपाल के प्रधानमंत्री से पीएम मोदी की मुलाकात, 8 समझौतों पर हुए हस्ताक्षर }