यूपी बोर्ड ने बिहार को भी छोड़ा पीछे, परीक्षा बैठे बिना ही 85 छात्र किए पास

लखनऊ। आज तक आपने शिक्षा के क्षेत्र में योगदान दे रहे बिहार बोर्ड के कारनामों को देखा और सुना होगा, वहां जिस तरह से टॉपर बनाए जाते हैं यह किसी से छुपा नहीं है। लेकिन इस मामले में यूपी बोर्ड भी किसी से पीछे नहीं हैं। जिसका खुलासा हुआ है यूपी के हरदोई जिले के मल्लावा कस्बे में। जहां के पटेल स्मारक विद्यालय के 85 छात्र परीक्षा में बिना शामिल हुए ही अव्वल अंकों के साथ पास हो गए। शिकायत के बाद जागे माध्यमिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने हरदोई डीआईओएस से पास हुए छात्रों की र्माकशीट रोकने और जांच करवाने के निर्देश जारी किए हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक पटेल स्मारक विद्यालय के दसवीं के 83 और इंटरमीडिएट के 2 छात्रों ने 2017 में हुई बोर्ड परीक्षाएं छोड़ दी थीं। परिणाम आने के बाद बोर्ड की ओर से भेजी गई मार्कशीट्स में परीक्षा न देने वाले छात्रों की मार्कशीट निकलने की खबर कैसे भी कॉलेज से बाहर पहुच गई। जिसके बाद श्रीपाल वर्मा नाम के एक व्यक्ति ने इस बात की शिकायत माध्यमिक शिक्षा सचिव से कर दी।

शिकायत मिलने के बाद हरकत में आए माध्यमिक शिक्षा विभाग ने डीआईओएस को निर्देश देकर गलत तरीके से पास हुए छात्रों की मार्कशीट को कब्जे में लेकर मामले की जांच करवाने के लिए दो सदस्यीय टीम गठित करने का निर्देश दिया है।

सवाल उठता है कि जिन छात्रों की उपस्थिति परीक्षा कक्ष में नहीं थी, उन्हें परीक्षा में पास कैसे किया गया। क्या यूपी बोर्ड में शिक्षा माफिया की जड़े इतनी गहरी हैं कि वे बिना परीक्षा में शामिल हुए छात्रों को मार्कशीट दिलवा देते हैं तो यह बेहद ही गंभीर अपराध की श्रेणी में आता है। यह घटना उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद् की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़ा करती है।