जालसाज शाइन सिटी के खिलाफ 9 लोगों ने फिर दर्ज कराई FIR, प्लॉट और निवेश के नाम पर 54 लाख ठगे

shine city
जालसाज शाइन सिटी के खिलाफ 9 लोगों ने फिर दर्ज कराई FIR, प्लॉट और निवेश के नाम पर 54 लाख ठगे

लखनऊ। प्लॉट और निवेश के नाम पर ठगी करने वाले शाइन सिटी के फर्जीवाड़े की जड़े काफी गहरी हैं। शाइन सिटी प्लॉट और निवेश के नाम पर सकैड़ों लोगों से ठगी कर चुका है। कई ऐसे भी ठगी के शिकार हैं जो अभी तक मुकदमा नहीं दर्ज करा पाये हैं। इस बीच शाइन सिटी के खिलाफ राजधानी लखनऊ के गोमतीनगर थाने में गुरुवार को नौ लोगों ने मुकदमें दर्ज करायें हैं। इसमें इलाहाबाद हाई कोर्ट में तैनात महिला सिपाही सहित 9 लोग शामिल हैं।

9 People Again Lodged Fir Against Forger Shine City :

निवेश और प्लॉट के नाम पर 54.55 लाख की ठगी का आरोप लगाते हुए गोमतीनगर थाने में गुरुवार को कंपनी मालिक राशिद नसीम, आसिफ नसीम समेत अन्य के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाई है। प्रयागराज के थानापुर सहसो निवासी शिवानी सिंह ने बताया कि वर्ष 2013 में विपुलखंड स्थित शाइन सिटी इंफ्रा प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड की पैराडाइज गाइन प्रोजेक्ट में 9.55 लाख रुपये का भुगतान कर तीन प्लॉट बुक करवाए थे।

उनका कहना है कि जहां कंपनी ने आवासीय जमीन बताई थी, उसे 11 जून 2018 को कृषि जमीन घोषित कर दिया गया। इस दौरान कंपनी ने शिवानी की निवेश रकम में 45 हजार बढ़ा दिया। कंपनी ने आश्वासन दिया कि स्कीम के तहत अब 2 लाख का निवेश पर कंपनी एक साल बाद मूलधन वापस कर देगी और करीब 15 माह बाद 800 वर्गफुट का प्लॉट देगी। शिवानी ने बताया कि तय समय पूरा होने के बाद उन्होंने कंपनी में संपर्क किया तो न तो रकम मिली और न ही प्लॉट मिला।

आरोप है कि कंपनी ने उनके साथ 17 लाख रुपये की ठगी की है। इसी तरह कृष्णानगर के नारायणपुर निवासी हेड कांस्टेबल सुनीता से 8.25 लाख रुपये की ठगी की। मऊ ​में रहने वाले मधुकर सिंह ने बताया कि उन्होंने मां गिरिजा सिंह के नाम पर शाइन सिटी कंपनी की पीआईपी योजना के तहत 2 लाख रुपये जमा किए थे, जो आज तक नहीं मिला।

इसी तरह चौपटिया तम्बाकू मंडी निवासी नाजनीन फातिमा ने शाइन सिटी के प्रोजेक्ट शाइन वैली ड्रीम होम-2 में मार्च 2017 में प्लॉट बुक किए थे। उन्होंने इसके लिए 3.96 लाख रुपये का चेक दिया था। इस पर आरोपियों ने गलत प्लाट पर कब्जा दे दिया था। इसी तरह बाराबंकी के सतरिख निवासी आतिफ अहमद उस्मानी, रुकैया खातून, मोहम्मद अशरफ मलिक, अजमत जमाल व नदीम मलिक समेत अन्य लोगों से लाखों रुपये ठगे हैं।

लखनऊ। प्लॉट और निवेश के नाम पर ठगी करने वाले शाइन सिटी के फर्जीवाड़े की जड़े काफी गहरी हैं। शाइन सिटी प्लॉट और निवेश के नाम पर सकैड़ों लोगों से ठगी कर चुका है। कई ऐसे भी ठगी के शिकार हैं जो अभी तक मुकदमा नहीं दर्ज करा पाये हैं। इस बीच शाइन सिटी के खिलाफ राजधानी लखनऊ के गोमतीनगर थाने में गुरुवार को नौ लोगों ने मुकदमें दर्ज करायें हैं। इसमें इलाहाबाद हाई कोर्ट में तैनात महिला सिपाही सहित 9 लोग शामिल हैं। निवेश और प्लॉट के नाम पर 54.55 लाख की ठगी का आरोप लगाते हुए गोमतीनगर थाने में गुरुवार को कंपनी मालिक राशिद नसीम, आसिफ नसीम समेत अन्य के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाई है। प्रयागराज के थानापुर सहसो निवासी शिवानी सिंह ने बताया कि वर्ष 2013 में विपुलखंड स्थित शाइन सिटी इंफ्रा प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड की पैराडाइज गाइन प्रोजेक्ट में 9.55 लाख रुपये का भुगतान कर तीन प्लॉट बुक करवाए थे। उनका कहना है कि जहां कंपनी ने आवासीय जमीन बताई थी, उसे 11 जून 2018 को कृषि जमीन घोषित कर दिया गया। इस दौरान कंपनी ने शिवानी की निवेश रकम में 45 हजार बढ़ा दिया। कंपनी ने आश्वासन दिया कि स्कीम के तहत अब 2 लाख का निवेश पर कंपनी एक साल बाद मूलधन वापस कर देगी और करीब 15 माह बाद 800 वर्गफुट का प्लॉट देगी। शिवानी ने बताया कि तय समय पूरा होने के बाद उन्होंने कंपनी में संपर्क किया तो न तो रकम मिली और न ही प्लॉट मिला। आरोप है कि कंपनी ने उनके साथ 17 लाख रुपये की ठगी की है। इसी तरह कृष्णानगर के नारायणपुर निवासी हेड कांस्टेबल सुनीता से 8.25 लाख रुपये की ठगी की। मऊ ​में रहने वाले मधुकर सिंह ने बताया कि उन्होंने मां गिरिजा सिंह के नाम पर शाइन सिटी कंपनी की पीआईपी योजना के तहत 2 लाख रुपये जमा किए थे, जो आज तक नहीं मिला। इसी तरह चौपटिया तम्बाकू मंडी निवासी नाजनीन फातिमा ने शाइन सिटी के प्रोजेक्ट शाइन वैली ड्रीम होम-2 में मार्च 2017 में प्लॉट बुक किए थे। उन्होंने इसके लिए 3.96 लाख रुपये का चेक दिया था। इस पर आरोपियों ने गलत प्लाट पर कब्जा दे दिया था। इसी तरह बाराबंकी के सतरिख निवासी आतिफ अहमद उस्मानी, रुकैया खातून, मोहम्मद अशरफ मलिक, अजमत जमाल व नदीम मलिक समेत अन्य लोगों से लाखों रुपये ठगे हैं।