9 गांवों ने खींची लक्ष्मण रेखा, युवाओं का पहरा

?????: ??????? ???? ??? ????? ???? ?? ???? ?? ???????? ??? ??? ?????
?????: ??????? ???? ??? ????? ???? ?? ???? ?? ???????? ??? ??? ?????

उचाना (हरियाणा): पीएम नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम मंगलवार रात को दिए संदेश को- कोई रोड पर न निकले के साथ-साथ 21 दिनों तक घर में रहने को कहा। इस लक्ष्मण रेखा को न लांघते हुए घर में रहने के आह्वान पर क्षेत्र के 9 गांवों के युवाओं, पंचायतों ने अपने-अपने गांवों में आने वाले रास्तों पर पहरा देना शुरू कर दिया है। गांव से कोई भी व्यक्ति बाहर नहीं जा रहा है तो गांव में बाहरी व्यक्ति के आने पर उससे पूरी जानकारी लेने के बाद ही गांव में जाने दिए जा रहा है। गांव में आने वालों के साबुन से हैंडवॉश करवाए जा रहे है।

9 Villages Pulled Laxman Rekha Guard Of Youth :

न पीएंगे हुक्का न खेलेंगे ताश
गांवों में न तो कोई सामूहिक रूप से हुक्का पीएंगा न ही ताश खेलेंगे। 21 दिनों तक घरों में लोगों से रहने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने हाथ जोडक़र आह्वान किया है।

कोरोना को हराने के लिए दूरी जरूरी
ग्रामीणों ने कहा कि कोरोना को हराने के लिए आपस में दूरी जरूरी है। कुछ बातों का बचाव भी हमें करना है। यह लोगों को देखना है कि उन्हें घर रहना पंसद है या अस्पताल में। घर पर अपने परिवार के 21 दिन रहेंगे तो कोरोना महामारी से दूर रहेंगे। हर गांवों में युवाओं, पंचायतों को चाहिए कि वो अपने-अपने गांव में आने वाले रास्ते पर लॉकडाऊन करें।

गृह सैनिक बन कर सबको लडऩा होगा
हर पंचायत को चाहिए कि वो अपने-अपने गांव में युवाओं के साथ बाहर से आने वाले व्यक्तियों पर नजर रखे। गृह सैनिक बन कर हमें इस महामारी से लडऩा होगा। जिस तरह से हमारे पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था कि इस बीमारी का एक ही उपाय है घर में रहे। जिन पंचायतों ने अपने-अपने गांव को लाकडॉऊन किया है वो उन पंचायतों को सराहनीय कदम है।

उचाना (हरियाणा): पीएम नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम मंगलवार रात को दिए संदेश को- कोई रोड पर न निकले के साथ-साथ 21 दिनों तक घर में रहने को कहा। इस लक्ष्मण रेखा को न लांघते हुए घर में रहने के आह्वान पर क्षेत्र के 9 गांवों के युवाओं, पंचायतों ने अपने-अपने गांवों में आने वाले रास्तों पर पहरा देना शुरू कर दिया है। गांव से कोई भी व्यक्ति बाहर नहीं जा रहा है तो गांव में बाहरी व्यक्ति के आने पर उससे पूरी जानकारी लेने के बाद ही गांव में जाने दिए जा रहा है। गांव में आने वालों के साबुन से हैंडवॉश करवाए जा रहे है। न पीएंगे हुक्का न खेलेंगे ताश गांवों में न तो कोई सामूहिक रूप से हुक्का पीएंगा न ही ताश खेलेंगे। 21 दिनों तक घरों में लोगों से रहने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने हाथ जोडक़र आह्वान किया है। कोरोना को हराने के लिए दूरी जरूरी ग्रामीणों ने कहा कि कोरोना को हराने के लिए आपस में दूरी जरूरी है। कुछ बातों का बचाव भी हमें करना है। यह लोगों को देखना है कि उन्हें घर रहना पंसद है या अस्पताल में। घर पर अपने परिवार के 21 दिन रहेंगे तो कोरोना महामारी से दूर रहेंगे। हर गांवों में युवाओं, पंचायतों को चाहिए कि वो अपने-अपने गांव में आने वाले रास्ते पर लॉकडाऊन करें। गृह सैनिक बन कर सबको लडऩा होगा हर पंचायत को चाहिए कि वो अपने-अपने गांव में युवाओं के साथ बाहर से आने वाले व्यक्तियों पर नजर रखे। गृह सैनिक बन कर हमें इस महामारी से लडऩा होगा। जिस तरह से हमारे पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था कि इस बीमारी का एक ही उपाय है घर में रहे। जिन पंचायतों ने अपने-अपने गांव को लाकडॉऊन किया है वो उन पंचायतों को सराहनीय कदम है।